Tag: Politics

Total 12 Posts

एक देश: एक चुनाव – व्यावहारिक दिक्कतें और सैद्धान्तिक सवाल

भारत के सशक्त, जीवन्तमान और फलते-फूलते लोकतंत्र के जीवन में वह समय आ गया है जबकि उसकी कुछ कार्य प्रणालियों की समीक्षा हो। सहमति बनाकर उनमें बदलाव हो। इनमें से

भगवा के विरुद्ध सेक्युलर राजनीतिज्ञों की असहिष्णुता

नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा पर विपक्ष द्वारा काफी कटाक्ष किया जा रहा है. ऐसा बोला जा रहा है कि अपनी यात्रा में कैमरा ले जाने का क्या तुक था.

TMC नेता ने ग़लती से बताया सच, पहले से ही टूटा हुआ था हाथ

बीजेपी के नेता अमित शाह की बंगाल रैली के बाद तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं में भिड़ंत हो गई. ऐसा बताया जा रहा था कि इसी भिड़ंत में तृणमूल कांग्रेस

लोकतंत्र पर जड़े थप्पड़ के पीछे हैं केजरीवाल?

आज देश की राजनीति का एक और काला अध्याय लिख दिया गया. अरविंद केजरीवाल आज दिल्ली की एक लोकसभा सीट पर रैली के लिए निकले थे. रैली थोड़ी आगे ही

रोहिंज्ञाओं पर हो रहे एक्शन पर नज़र रखिये

हम भारतीय ‘अतिथि देवो भव:’ की बात करने वाले लोग हैं. हमारे घर में जब भी कोई मेहमान आता है तो.हम यह प्रयास करते हैं कि उसकी सुख-सुविधा में किसी

लालकृष्ण आडवाणी का संदेश

देश के पूर्व उपप्रधानमंत्री, भाजपा के वरिष्ठतम नेता और भारतीय राजनीति के पितृ पुरुष लालकृष्ण आडवाणी जी ने लगभग 5 वर्षों बाद ब्लॉग लिखा है. यह इस बात का भी

किसके साथ होगा उत्तरप्रदेश

कहते हैं कि दिल्ली का रास्ता यूपी से होकर जाता है. वैसे 1991 में नरसिंह राव के लिए यह रास्ता आंध्र प्रदेश, कर्णाटक और महाराष्ट्र के जरिये खुला था. 2004

चीन को पछाड़ भारत नम्बर 1

क्या कांग्रेस देशद्रोहियों को शह दे रही है? आगामी लोकसभा चुनाव ‘चिरजीवी’ भारत के भविष्य को तय करेंगें. यह वाक्य लिखना इसलिए लिखना पड़ रहा है क्योंकि भारत के टुकड़े करने का ‘प्लान’ एक

पाकिस्तानी शरारत का निशाना बनती देश की जनता

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक ट्वीट कर के भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया है. उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान के नेशनल डे पर बधाइयों के

2019 – नरेंद्र मोदी बनाम कुछ नहीं!

सोशल मीडिया के उत्थान और देश भर में स्मार्टफ़ोन की गहरी पैठ के साथ, हिंदी-भाषी क्षेत्र के व्यावहारिक मतदाता खूब भली भाँति जान रहे हैं कि इस बार मोदी के मुक़ाबले कोई नहीं है. वे अब मीडिया की विवादित राफेल कहानी से मूर्ख बनने के लिए तैयार नहीं हैं. वे जानते हैं कि विपक्ष मुखर है, अनाड़ी है और भ्रम से भरा है. मोदी का अर्थ है स्थिरता, और खंडित गठबंधन का मतलब है समझौता, भ्रष्टाचार और फिर एक बार भाई-भतीजावाद वाली सरकार.