Tag: Arvind Kejriwal

Total 14 Posts

ममता बनर्जी वाले क्षेत्रवाद का सुर अपनाते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल!

हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का एक बयान काफी सुर्खियां बटोर गया. उनका कहना था कि बिहार से 500 का टिकट ले कर आने वाला बिहारी 5

क्या आम आदमी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन करते तो हारती भाजपा?

पिछले दो महीने से अरविंद केजरीवाल यदि किसी बात से सबसे ज़्यादा परेशान थे तो वह था कांग्रेस का गठबंधन के लिए राज़ी ना होना. कांग्रेस की हस्ती मिटाने आए

एकता कपूर को कड़ी टक्कर देती अरविंद केजरीवाल की मर्यादा-विहीन राजनीति

अरविंद केजरीवाल एक ऐसी शख्सियत है जो 2015 के समय इस देश की राजनीति में एक बड़े नाम की तरह उभरे. दिल्ली जैसे केंद्र शासित प्रदेश में भी 70 में

भावनाओं का तर्कहीन ‘कमर्शियलाइज़ेशन’ करते आधुनिक युग के डिजिटल पत्रकार

दोस्तों जरा एक बात सोचिये. यदि रास्ते पर कोई चलता हुआ व्यक्ति लड़खड़ा कर गिर जाता है, तो क्या हम जमीन को दोष देंगे? एक तर्कशील व्यक्ति यही कहेगा कि

लोकतंत्र पर जड़े थप्पड़ के पीछे हैं केजरीवाल?

आज देश की राजनीति का एक और काला अध्याय लिख दिया गया. अरविंद केजरीवाल आज दिल्ली की एक लोकसभा सीट पर रैली के लिए निकले थे. रैली थोड़ी आगे ही

दिल्ली की शिक्षा क्रांति के दीपक तले घना अँधेरा – भाग 2

इस लेख का पहला भाग यह है. दिल्ली सरकार अगर इतना ख़र्च कर रही है, आलीशान क्लासरूम बना रही है, बजट आवंटित कर रही है तो फिर इसका परिणाम क्या

दिल्ली की शिक्षा क्रांति के दीपक तले घना अँधेरा (भाग -1 )

दिल्ली की शिक्षा क्रांति के बारे में हम सभी कई सालों से सुन रहे हैं. पहले मोहल्ला क्लिनिक और फिर दिल्ली के सरकारी स्कूलों की चमकती हुई तस्वीरें. शीशे के

हेलो केजरीवाल साहब! आइए आपको पूर्ण राज्य का महंगा गणित समझाएं!

चुनावी मौसम अपने चरम पर है और इस चुनावी मौसम को देखते हुए नेताओं के बयान और वादे भी अपने चरम पर हैं. 12 अप्रैल को दिल्ली में चुनाव होने

क्या पूर्वी दिल्ली से आ रही है नक्सलियों की आहट?

आतिशी मार्लेना पूर्वी दिल्ली से AAP की उम्मीदवार हैं और वह भाजपा के गौतम गंभीर के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं. जब मैंने AAP द्वारा फेसबुक विज्ञापन (जाहिर सी बात

छोड़ सियार भाई कुल्हड़ के आसा, तमासा बन जाइब, होइहे निरासा

“छोड़ सियार भाई कुल्हड़ के आसा, तमासा बन जाइब, होइहे निरासा…” भोजपुरिया गीत है. मनोज तिवारी का गाया हुआ. लेकिन हम यहां इन गाने की बात क्यों कर रहे हैं.