Category: Journalism

Total 13 Posts

भावनाओं में बह रहे संपादक जी को लोपक प्रणाम!

रोज़गार मुक्त राष्ट्रवाद! यह किसी भाजपा विरोधी पार्टी का नारा नहीं है बल्कि ‘दैनिक भास्कर’ का दिया हुआ जजमेंट है. आप सोच रहे होंगे कि अखबार कोई जज तो है

पत्रकार महोदय! प्रचार नहीं जागरूकता है. कभी आप भी फैलाया करो…जागरूकता!

चुनावी मौसम है भाई साहब. सब कुछ चल रहा है. विज्ञापन का दौर चल रहा है. कांस्पीरेसी थ्योरी की तो इन्तिहा हो गई है. तमाम लेख बता रहे हैं कि

आप से बड़ा प्रोपगंडिस्ट कौन है राजदीप?

विवेक ओबराय ने राजदीप से पूछा; “क्या आपके शो को बंद कर देना चाहिए क्योंकि वह लोगों की सोच को प्रभावित करता है?” कुछ वर्ष पहले जब ठीक पंजाब चुनाव