Category: ग्राउंड रिपोर्ट 2019 चुनाव

Total 23 Posts

कांग्रेस का डूबता जहाज छोड़ कर भाग रहे नेता

लोकसभा चुनाव से पूर्व कांग्रेस की मुसीबत थमने का नाम नहीं ले रही हैं. कांग्रेस की बढ़ती मुश्किलें आगामी चुनाव का गणित भी बिगाड़ सकती हैं. कांग्रेस के लिए समस्याएं

देश की बात, देश के साथ – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (छपरा, बिहार)

छपरा लोकसभा सीट 2008 के परिसीमन के बाद से सारण लोकसभा सीट के नाम से जानी जाती है. सारण (छपरा) लोकसभा सीट कई मायनों में ऐतिहासिक है. बिहार के पूर्व

देश की बात, देश के साथ – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (मधुबनी, बिहार)

अपनी अद्भुत चित्रकला ‘मधुबनी पेंटिंग’ के लिए विश्वविख्यात मधुबनी पौराणिक कथाओं में भी एक महत्वपूर्ण स्थल रहा है. मधुबनी को मिथिला संस्कृति का हृदयस्थल माना जाता है. स्वतन्त्रता से पूर्व

देश की बात, देश के साथ – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (हाजीपुर, बिहार)

पटना से सटा हुआ हाजीपुर (सुरक्षित) संसदीय क्षेत्र मुख्यतः अपने सांसद और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की वजह से ही जाना जाता है. हाजीपुर की जनता ने 1977 के जनता

देश की बात, देश के साथ – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (लखनऊ, U.P)

लोकसभा चुनाव में उत्तरप्रदेश की कितनी महत्ता है इसका अंदाजा इस बात से ही लगा सकते हैं कि अक्सर यह कहा जाता है “चुनावी गलियारे में दिल्ली का रास्ता उत्तरप्रदेश

देश की बात, देश के साथ – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (उजियारपुर, बिहार)

बिहार में राजनीति पर आसक्ति ऐसी है कि वहाँ का राजनीतिक तापमान ठंडा हो तो भी वह शेष देश के राजनीति मिजाज से गर्म ही पाया जाता है. देश में

जन की बात और लोपक प्रस्तुति – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (विष्णुपुर, पश्चिम बंगाल)

विष्णुपुर लोकसभा सीट पश्चिम बंगाल के बाँकुरा जिले के अंतर्गत आती है. हजार वर्षों से भी अधिक समय तक मल्लभूम वंश की राजधानी रही विष्णुपुर नगरी अपने शानदार टेराकोटा मन्दिरों

जन की बात और लोपक प्रस्तुति – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (संबलपुर, ओडिशा)

ओडिशा के 21 लोकसभा क्षेत्रों में से एक, संबलपुर संसदीय क्षेत्र का गठन 1952 के चुनावों से पहले किया गया था और इसमें सात विधान सभा क्षेत्र शामिल थे, जिनमें

जन की बात और लोपक प्रस्तुति – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (नॉएडा, उत्तर प्रदेश)

गौतमबुद्ध नगर लोकसभा क्षेत्र का अस्तित्व 2002 के डीलिमिटेशन कमीशन के सिफ़ारिश पर 2008 में आया था. 2009 लोक सभा चुनावो में बसपा के सुरेंद्र सिंह नागर जीते थे, वो

जन की बात और लोपक प्रस्तुति – ग्राउंड रिपोर्ट 2019 (पुरुलिया, पश्चिम बंगाल)

झारखंड की सीमा से सटा पश्चिम बंगाल का पुरुलिया जिला पिछड़ा और आदिवासी बहुल है. यहाँ महतो कुड़मी जाति की अच्छी तादाद है. इस सीट पर आजतक कुड़मी ही चुनाव