Category: Election

Total 62 Posts

अतीत के पन्नों से राजीव गांधी द्वारा चलाया गया नफ़रत का अभियान

पिछले दो दिनों से अचानक से स्वर्गीय प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बारे में तरह तरह की तारीफ़े सुनने को मिल रही हैं . कारण नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें भ्रष्ट कहा

लोकतंत्र पर जड़े थप्पड़ के पीछे हैं केजरीवाल?

आज देश की राजनीति का एक और काला अध्याय लिख दिया गया. अरविंद केजरीवाल आज दिल्ली की एक लोकसभा सीट पर रैली के लिए निकले थे. रैली थोड़ी आगे ही

क्या राहुल गांधी के सामने झुक गया इंडिया टुडे?

कल राहुल गांधी द्वारा इंडिया टुडे को एक इंटरव्यू दिया गया. इंटरव्यू में क्या हुआ या क्या नहीं यह तो आप उसको देखने के बाद ही समझ पाएंगे, लेकिन सूत्रों

भीड़तंत्र से डरते पत्रकारों के सवाल!

एक लोकतांत्रिक व्यवस्था का मजाक कैसे बनता है. इसका जरा आप एक उदाहरण देखिए. प्रियंका गांधी अपने भाई और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पैरोकारों को चुभ गयी एक युवा की अभिव्यक्ति

इस देश के अंदर चुनावी माहौल के बीच में यह देखना बहुत दिलचस्प हो गया है कि लोग किस प्रकार से अपने पसंदीदा नेता का प्रचार कर रहे हैं. नेताओं

नेत्री जी आपको चाय नहीं, सच के कड़वे घूँट की ज़रूरत है

चुनावों में जनता से ज़्यादा तत्पर उनके सामने खड़े नेता को रहना चाहिए. भले ही दिखावे के लिए ही सही, पर कम से कम चुनाव ख़त्म होने तक ही दिखावा

पूंजीवाद के खिलाफ लड़ते आधुनिक पूंजीवादी ‘वामपंथी’

बेगूसराय में खड़े कन्हैया कुमार के लिए जिस प्रकार का समर्थन हमें देखने को मिल रहा है वह आश्चर्यजनक है. इससे भी ज्यादा आश्चर्यजनक यह बात है कि जिन लोगों

कांग्रेसी नेताओ का पकड़ा गया झूठ, राहुल गांधी तक पहुँचा था न्याय का फ़र्ज़ी फ़ॉर्म

एक दो दिन पहले ही ख़बर आइ थी कि कोटा में न्याय योजना के फॉर्म बांटे जा रहे हैं. हालाँकि कांग्रेसी नेताओं की यह घटिया चाल जनता को रास नहीं

मुद्दों के अकाल के बीच में चुनाव प्रभावित करते बचकाने तर्क

देश के अंदर राजनीतिक मुद्दों को लेकर हमेशा से एक बड़ी बहस चलती आई है. लोगों का अलग मत होने के पश्चात भी हमारे देश में हमेशा से एक राजनैतिक

TMC को वोट ना डालने पर मुस्लिम महिला के मुँह में डाला गया ऐसिड

बंगाल में जो ”पोरीबोर्तन” आया है, वो भगवान करे किसी देश या राज्य में न आए. चुनावी हिंसा, कार्यर्ताओं को केवल इसलिए फांसी पर लटकाना क्यूंकि वो किसी अन्य पार्टी