Category: Economy

Total 7 Posts

संपर्क का अंत नहीं, संकल्प की शुरुआत है चंद्रयान 2

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा अपनो के विघ्नों ने घेरा अंतिम जय का वज्र बनाने नव दधीचि हड्डियां गलायें आओ फिर से दिया जलाएं!” भारत रत्न और देश के पूर्व प्रधानमंत्री

असफल सिद्ध हो चुके समाजवाद की ओर एक आत्मघाती कदम?

भारतीय चिन्तन परंपरा में चार पुरूषार्थ हैं- धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष। अर्थ यानि धन को भी वहीं स्थान हासिल हैं जो धर्म, काम या मोक्ष का है। इसलिए हमारे यहां

अपने इमरान ‘साहब’ का प्रदर्शन देखिये लिबरल महोदय!

अभी गूगल बाबा की शरण में घूमते हुए हमें एक नए तथ्य का पता चला. ताजा खबर यह है कि गूगल बाबा बता रहे हैं कि $1 के मुकाबले पाकिस्तान

UPA 2 के कार्यकाल को NDA से बेहतर बताने के लिए आंकड़ों की बाजीगरी की खुलती पोल!

देश के कुछ तथाकथित अर्थशास्त्रियों और बुद्धिजीवियों द्वारा समय समय पर यह कहा जाता रहा है कि इस देश की GDP का आंकड़ा असल में सच्चाई से बहुत दूर है.

रक्षा क्षेत्र के निर्यात में कमर कसता भारत

भारत के जल, थल व वायु सेना की शक्ति बढ़ती जा रही है. अब तक इस बढ़ती शक्ति का कारण सिर्फ विदेशी मिसाइलें, हथियार व विमान थे किन्तु अब स्वदेशी

विकसित देशों को टक्कर देता भारत

विश्व में कई शक्तिशाली देश लगातार आगे बढ़ रहे हैं. प्रत्येक देश अन्य को पीछे छोड़ने की भरपूर कोशिश कर रहा है. भारत भी विकसित देशों की दौड़ में शामिल

एक धक्का और दो, पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था तोड़ दो!

पाकिस्तान का रुपया डॉलर के मुकाबले 148 रुपये पहुंच गया है. यह पाकिस्तान के घर का मामला है, लेकिन यह हमारे लिए संभावनाओं के द्वार खोल रहा है. कोई कितना भी लिबरल बन