Category: Culture

Total 41 Posts

हार : स्त्री की अपने गहनों से भावनात्मक जुड़ाव की एक कहानी

छह महीने भी नहीं हुए थे नई बहू को, घर की हर बात उसे समझ आ गयी थी. धीरे धीरे घर में होने वाले हर निर्णय में उसकी राय भी ली

कुंभ मेला..दूर हुईं भ्रांतियाँ

बचपन से ही मन में यह भ्रांति बन गयी थी कि कुंभ बस कहने को हिन्दुओं के लिये बेहद पुण्य स्नान है, पर यह तमाम तरह की बदइंतज़ामी और अराजकता

पाकिस्तान के प्रति बॉलीवुड के प्रेम का आखिर कारण क्या है ?

फिल्मी जगत ने जिस दिन से पाकिस्तानी कलाकरों के साथ काम करने से मना किया है, उस दिन से कोई न कोई बड़ा बॉलीवुड सुपरस्टार यह कहता हुआ पाया गया

केरल सरकार सबरीमाला को खंडित करने पर आमादा

जब आपके अपने घर में आग लगी हो तब आप पहले अपने घर की आग बुझाएंगे न कि दूसरे के घरों को बचाएंगे. पर ऐसा ही कुछ केरल में देखने

वुमनिया की दुनिया:कॉरपोरेट

ऑफिस के वाशरूम में शीशे के सामने खड़ी प्राउड वाली मुस्कुराहट के साथ झुर्रियों वाले गाल ब्लश से चमकाती हुई सीईओ हो या कॉम्पलेक्स प्रोजेक्ट की तरह बालों की उलझन

स्टेच्यू ऑफ यूनिटी: लौह पुरुष को श्रद्धांजलि

लौह पुरुष की जन्म जयन्ती 31 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया. यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा

नीम हकीम या वैद्यजी – चुनाव आपका

साधन संपन्न मगर भोलेभाले लोगों से भरपूर एक आदर्श गाँव था। गाँव वाले इतने सीधे थे कि उन्हें ना तो पंचायत की आवश्यकता थी और ना हीं पंचों की। भोले

वासुदेव, यमुना और नेशनल ग्रीन ट्रायब्यूनल

तेज़ वर्षा वाली रात में कंश का कारागार। श्रीकृष्ण का जन्म हो चुका है। वासुदेव उन्हें टोकरी में रखकर गोकुल जाने के लिए तैयार हैं। माता देवकी अनिष्ट की आशंका

दरबारी होली – बुरा न मानो होली है!

दिल्ली दरबार की होली सभा में राष्ट्रऋषि अपने सिंहासन पर विराजमान हैं. उनके नीचे की अति आरामदेह, आरामदेह और सामान्य कुर्सियों पर पदानुरुप मंत्री, संतरी और यंत्री बैठे हुए हैं.