Category: Culture

Total 41 Posts

बेहटा, कानपुर का प्राचीन जगन्नाथ मंदिर – एक ऐतिहासिक व पुरातात्विक धरोहर

ग्रीष्म ऋतु के वह दिन जब तपती धूप मे भी प्रकृति अपना सौंदर्य सँवारते हुए अपनी ओर आपको आकर्षित करती है. कहीं तो आप उसको अमलतास के पीले फूलों में

नारी-विरोधी सरकार ने कैसे हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में कन्या जन्म दर को बढ़ाया, पढ़ें रिपोर्ट

भाजपा सरकार के ख़िलाफ़ एक एजेंडा चलाया जाता रहा है. उसे अल्पसंख्यक विरोधी, बनिया ब्राम्हण पार्टी, रूढ़िवादी और नारी विरोधी इत्यादि इत्यादि कहा जाता रहा है. हालाँकि एजेंडा चलाने वालों

एनिमे की अचंभित करने वाली रंगीन दुनिया, कुछ बेहतरीन फ़िल्में जो आपको अवश्य देखना चाहिए

‘Anime’ सुनकर आपको लगेगा कि मैं डोरेमोन और शिन चैन की बात कर रही हूँ. पर नहीं Anime कार्टून फ़िल्म्स केवल बच्चों के लिए नहीं बड़ों के लिए भी हैं.

काव्य समीक्षा: कुछ बातें मन की

मनीष मूंदड़ा से मेरा परिचय क़रीब ६ वर्ष पुराना है। पहले मैं इन्हें एक सफल उद्योगपति और एक कुशल फ़िल्म प्रोड्यूसर के तौर पर जानता था, धीरे ट्विटर की कृपा

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पैरोकारों को चुभ गयी एक युवा की अभिव्यक्ति

इस देश के अंदर चुनावी माहौल के बीच में यह देखना बहुत दिलचस्प हो गया है कि लोग किस प्रकार से अपने पसंदीदा नेता का प्रचार कर रहे हैं. नेताओं

नोट्रे डैम पर आंसू बहते पर अपने हज़ारो साल पुराने अतुल्य मंदिर के जलने का पता नहीं

दो दिन पहले फ्रांस के सबसे प्रसिद्ध स्थलों में से एक पेरिस के 850 साल पुराने मध्ययुगीन नॉट्रे-डेम कैथेड्रल में आग लग गई और मुख्य संरचना को छोड़कर भवन की

साध्वी प्रज्ञा पर लिबरल चिल्ल-पों से उभरे सवाल

साध्वी प्रज्ञा के भोपाल से नामांकित होने के बाद से ही मीडिया और लिबरल समाज यह साबित करने में लगा है की बीजेपी ने अपना असली रूप दिखा दिया और

बेगाने गम में रोता एलीट अब्दुल्ला

पेरिस के प्रसिद्ध चर्च नौत्रे-डैम में कल आग लग गयी. 900 साल पुराने इस चर्च में आग लगने के बाद बहुत से लोगों को दुख हो रहा है. होना भी

गोआ के बड़बोले पादरी के बयान पर मीडिया की चुप्पी शर्मनाक

बीजेपी पर हमेशा ही हर चुनाव के पहले ध्रुवीकरण का आरोप लगाया जाता है. भले ही हर सभा में विपक्षी पार्टियाँ खुलेआम मुस्लिम और ईसाइयों को भड़काऐं कि अगर आप

क्योंकि राम केवल देना जानते हैं!

श्रीराम जन्मोत्सव पर मंदिर जाना हुआ. प्रत्येक आयुवर्ग के लोग, राम के सानिध्य में प्रसन्न थे. मन्दिर में नियमित आने वालों का जैसे वृहद परिवार एकत्र हुआ हो. सब आपस