Category: राजनीति

Total 183 Posts

लोकतंत्र का सबसे कमजोर स्तम्भ बनता विपक्ष!

हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनावों में ज़्यादा दिन नहीं बचे हैं. ऐसी स्थिति में हर पार्टी चाहती है कि वह न सिर्फ पिछले प्रदर्शन को सुधारे बल्कि विपक्ष तो यह

घृणात्मक राजनीति के चरम पर जलता बंगाल!

ममता बनर्जी का बंगाल एक बार फिर से लहूलुहान हुआ है. बंगाल के मुर्शिदाबाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक के साथ जो हुआ, वह आपकी रूह कंपा देने के

ममता बनर्जी वाले क्षेत्रवाद का सुर अपनाते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल!

हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का एक बयान काफी सुर्खियां बटोर गया. उनका कहना था कि बिहार से 500 का टिकट ले कर आने वाला बिहारी 5

अब अप्रवासी भारतीयों पर लगा “मोदी-भक्त” होने का टैग, ज़मीनी हकीकत से दूर भागते लिबरल बुद्धिजीवी

जब आप बुद्धिजीवी स्तर तक पहुंच जाते हकने तो आमतौर पर बुद्धिजीवियों को द्वेष, ईर्ष्या, अहंकार और दंभ से ऊपर माना जाता है. दूसरे देशों में ऐसा होता होगा, भारत

सोशल मीडिया पर “सस्ता नैरेटिव” सेट करती कांग्रेस!

सोशल मीडिया की सबसे खास बात यह है कि यह विचारो से भी तेज़ एक जगह से दूसरी जगह पहुंच जाता है. यह कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगा कि सोशल

कालचक्र की फांस में फंसे चिदंबरम!

इस समय देश के पूर्व गृह मंत्री और कांग्रेस नेता पी.चिदंबरम के लिए समय स्थितियों के अनुकूल नहीं है. UPA 1 और 2 क शासनकाल के दौरान किये हुए कुछ

जब सरदार पटेल ने मुसलमानों के लिए अलग चुनावी व्यवस्था पर ड्राफ्टिंग कमेटी के ही सदस्य को सुनाई खरी-खरी

देश के सामाजिक और संघीय ढांचे के मध्य हमेशा से ही यह बात उठती आई है कि आखिर अधिकारों को लेकर चर्चा कितने चरणों में पूरी की जा सकती है?

क्या भारत नहीं था आक्रमणकारी? इतिहास का कहना कुछ अलग है

कारगिल विजय दिवस की संध्या पर एक कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस देश ने कभी किसी के ऊपर हमला नहीं किया. हम हमेशा से अहिंसा

बुद्धिजीवी वर्ग के सन्नाटे में सवाल पूछती दो जिंदगियां!

पिछले दिनों देश के दो इलाकों में दो घटनाएं हुई. पुणे और दिल्ली के अंदर ऐसा रक्तपात हुआ, जिसका कोई उदाहरण नहीं दिया जा सकता. वैसे देश में अपराध होना