Category: धर्म-संस्कृति

Total 32 Posts

जब एक सारस्वत ब्राम्हण को मिली इस्लाम की धमकी (भाग 1)

बात तब की है जब मैं अपने इंजीनियरिंग के दूसरे वर्ष में था. मैंने तब अपने आप को यह स्वतंत्रता दी कि मैं आगे क्या करूँ. मेरे परिवार में बहुत

क्योंकि राम केवल देना जानते हैं!

श्रीराम जन्मोत्सव पर मंदिर जाना हुआ. प्रत्येक आयुवर्ग के लोग, राम के सानिध्य में प्रसन्न थे. मन्दिर में नियमित आने वालों का जैसे वृहद परिवार एकत्र हुआ हो. सब आपस

शिव जी बिहाने चले पालकी सजाय के ….

जब फागुन कपार पर सवार है और देश-दुनिया में वेलेंटाइन का खुमार .. बुढ्ढों में इश्क और जवानों में प्रेम का बुखार है, ठीक उसी समय हमारी काशी सज-संवरकर तैयार

सबरीमाला के ज़रिए सनातन मान्यताओं और रीति-रिवाजों पर प्रहार

हम ऐसे समय में रह रहे हैं जिसमें ऐसा प्रतीत होता है कि यदि आप हिन्दू हैं तो आपकी हर मान्यता, रीति-रिवाज, प्रचलन, धारणाएं सबका परिहास बनाया जाता है. इसके

कुंभ मेला..दूर हुईं भ्रांतियाँ

बचपन से ही मन में यह भ्रांति बन गयी थी कि कुंभ बस कहने को हिन्दुओं के लिये बेहद पुण्य स्नान है, पर यह तमाम तरह की बदइंतज़ामी और अराजकता

महापर्व कुंभ: आस्था और संस्कृति का प्रतीक सह उभरता ग्लोबल ब्रांड

कुम्भ महापर्व हिन्दू धर्म के प्राचीनतम पर्वों में से एक है. इस पर्व का उल्लेख वेदों ओर  पुराणों में मिलता है. आध्यात्मिक उत्सव के रूप में कुम्भ का इतिहास काफी

द्रौपदी के बहुविवाह पर निरर्थक फेमिनिस्ट आउटरेज

हमारे धार्मिक ग्रंथों की आलोचना करने का फैशन आजकल जोरों पर है. राखी आने वाली हो तो मीडिया में राखी के पितृसत्ता को बढ़ावा देने वाले लेखों की बाढ़ सी

क्यों है कुम्भ हिन्दू धर्म में विशेष और क्या होते हैं अखाड़े?

ग्रह नक्षत्रों के विचरण के अनुसार, हरिद्वार, प्रयाग, नासिक और उज्जैन में सदियों से हर तीसरे वर्ष अर्ध या पूर्ण कुम्भ का आयोजन होता है. यह मूल रूप में बृहस्पति

राम मंदिर बनवा पाएंगे मोदी?

अयोध्या मामले में केंद्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर कर गैर-विवादित भूमि उसके मूल मालिकों को वापस करने की मांग की है. 1993 में नरसिंह राव की सरकार