Category: कविता

Total 4 Posts

काव्य समीक्षा: कुछ बातें मन की

मनीष मूंदड़ा से मेरा परिचय क़रीब ६ वर्ष पुराना है। पहले मैं इन्हें एक सफल उद्योगपति और एक कुशल फ़िल्म प्रोड्यूसर के तौर पर जानता था, धीरे ट्विटर की कृपा

ठप्रेक: एक अनूठी विधा

यदि आप ट्विटर पर हैं और यहाँ कई बार ट्रेंड करने वाले #सतपरकास को नहीं जानते तो आपका ट्विटरीय जीवन बिना सुकर्मों वाला मनुज तन धरने जैसा है. जितने फॉलोवर्स से लोग

कीमत क्या हो शांतिकाल की

राष्ट्र हृदय जब चीख़ रहा हो,अश्रु नयन भर दीख रहा हो,एक प्रश्न तब हर मन पूछे, कहाँ जगह हो खड्ग-ढाल की? क़ीमत क्या हो शांतिकाल की? लहू बह रहा जब