लिंकित और टैगित पाठक की व्यथा-कथा

ब्लागिंग करते हैं. एक जगह बैठे-बैठे लिख लेते हैं. वहीँ बैठे-बैठे छाप देते हैं. न तो प्रकाशक के आफिस के चक्कर लगाने की ज़रुरत है और न ही लेख के वापस लौट आने की आशंका. झमेला केवल पाठक ढूढ़ने का है. वो भी करने के लिए कहीं जाने की ज़रुरत नहीं है. मेल में ढेर सारा नाम भरा और सेंड नामक बटन क्लिकिया दिया. कुछ-कुछ वैसा कि;

भेज रहा हूँ नेह-निमंत्रण प्रियवर तुम्हें पढ़ाने को
हे मानस के राजहंस तुम आ जाना टिपियाने को

लेकिन कई महीने से चल रहा मेरा यह प्लान आज सुबह-सुबह मुझे भारी पड़ गया. आज बड़े दिनों बाद लालमुकुंद पधारे. आफिस में आये तो मैं धन्य हो लिया. पाठक अगर ब्लॉगर से मिलने खुद आये तो ब्लॉगर धन्य-गति को प्राप्त होगा ही. मैं भी प्राप्त हुआ. उनके बैठते ही पानी मंगवाया. साथ ही कोल्डड्रिंक्स लाने की व्यवस्था में जुट गया. लेकिन एक बात का आभास हो रहा था. लालमुकुंद मेरी इस व्यवस्था से खीझे जा रहे थे.

कुछ समय के लिए तो उन्होंने खुद को संभाला लेकिन अचानक ज्वालामुखी की तरह फट पड़े. बोले; “तुम कैसे आदमी हो? ठीक है, ब्लागिंग करते हो लेकिन जितनी बार पोस्ट लिखते हो, पढने के लिए मेल क्यों ठेल देते हो?

उनकी बात सुनकर मुझे कुछ अजीब सा लगा. पता नहीं क्यों लग रहा था कि वे कुछ नाराज हैं. सामने वाला अगर नाराज हो जाए तो तुंरत गंभीर हो जाना श्रेयस्कर रहता रहता है. लिहाजा मैंने भी गंभीरता की मोटी चादर से मुख को ढांपते हुए कहा; ” वो तो देखो, एक एक्सरसाइज टाइप है. मुझे लगता है कि तुम मेरे लेखों को बड़ी गंभीरता से पढ़ते हो. टिप्पणी नहीं देते वो एक अलग बात है लेकिन मुझे भरोसा है कि तुम मुझे सुझाव दोगे कि लेख में क्या कमी है. इसी बात के चलते मैं तुम्हें मेल भेज देता हूँ.”

यह कहते हुए मेरे मुख पर हल्की सी मुस्कान आ गई. बस, वे तो और बिफर पड़े. बोले; “मैं मजाक के मूड में नहीं हूँ. आज इस तरफ आया था तो सोचा कि तुमसे मिलूँ और इस मुद्दे पर बात करूं. तुम्हें मालूम है, अपनी पोस्ट पढ़वाने के लिए जो मेल भेजते हो, उसका क्या करता हूँ मैं?”

मैंने कहा; “जाहिर है, उस लिंक को क्लिक करके मेरे लेख पढ़ते होगे. आखिर मैं मेल इसीलिए भेजता हूँ कि तुम मेरे लेख पढ़ सको.”

मेरी बात सुनकर और बिफर पड़े. बोले; “सीधा डिलीट करता हूँ मैं. तुंरत. पिछले न जाने कितने महीनों से तुमने परेशान करके रखा है मुझे. और केवल तुम्ही नहीं हो. न जाने और कितने भाई-बन्धु हैं तुम्हारे जो ऐसा करते हैं . तुमलोगों को क्या लगता है, तुम्हारे लेख इस तरह से लोग पढेंगे? अगर ऐसा ही है तो क्या ज़रुरत है ब्लॉगवाणी और चिट्ठाजगत की?”

मैंने कहा; “ब्लॉगवाणी और चिट्ठाजगत की अपनी भूमिका है. लेकिन मेल की भी अपनी भूमिका है. आज ज़रुरत है नेट पर हिंदी को आगे बढाने की. हम हिंदी की सेवा कर रहे हैं. सेवा बिना कष्ट के तो असंभव है.”

मेरी बात सुनकर मन ही मन कुछ बुदबुदाए. लगा जैसे कह रहे हों; “हिंदी की सेवा! माय फुट.”

मैंने कहा; “लेकिन मेरे लेख तो और लोग पढ़ते हैं. कुछ तो टिप्पणी भी देते हैं. बहुत लोग पसंद करते हैं. ब्लॉगवाणी पर मेरे लेख को ऊपर पहुंचा देते हैं.”

मेरी बात सुनकर उन्होंने माथे पर हाथ रख लिया. बोले; “तुमको क्या लगता है? लोग तुम्हारे लेख पर टिप्पणियां देते हैं इसका मतलब क्या निकालते हो तुम?”

मैंने कहा; “इसका मतलब और क्या हो सकता है? लोग मेरे लेख, मेरी कवितायें बहुत पसंद करते हैं. और क्या मतलब हो सकता है इसका?”

वे बोले; “अरे मूढ़मति. दुनियाँ का कुछ पता भी तुम्हें? कौन क्या सोचता है तुम्हारे लेखों के बारे में? जो भी चैट पर मिलता है वो तुम्हारा नाम लेकर यही कहता है कि तुमने उन सब को कितना परेशान कर रखा है. अनूप जी परसों चैट पर मिल गए. बोले शिव कुमार मिश्र ने मेल भेज-भेज कर हालत खराब कर दी है. पोस्ट पब्लिश किये नहीं कि तुंरत मेल भेज दिया. पागल कर दिया है इन्होने.”

मैंने कहा; “लेकिन उनकी टिप्पणियों से तो ऐसा नहीं लगता. मेरी एक पोस्ट पर तो उन्होंने “जय हो” भी लिखा था.”

वे बोले; “हे भगवान. कुछ नहीं समझाया जा सकता इस आदमी को. तुम्हें मालूम है उन्होंने “जय हो” क्यों लिखा था? इसका कुछ आईडिया है तुम्हें?”

मैंने कहा; “इसका मतलब तो यही होता है कि उन्हें वो लेख बम्फाट लगा होगा.”

बोले; “ऐसा कुछ नहीं है. वे तो चाहते थे कि वे “क्षय हो” लिख दें लेकिन “क्षय हो” लिखने लिए टाइम लगता इसलिए उन्होंने “जय हो” लिख डाला. “जय” टाइप करने के लिए केवल तीन ‘की’ यूज करने की ज़रुरत होती है. वहीँ “क्षय” टाइप करने के लिए पूरे पांच ‘की’ यूज करना पड़ता है. अब कौन झमेला करे. ऐसे में उन्होंने सोचा होगा कि “जय हो” लिख दो. इसका भी मन रह जाएगा. नहीं तो ऐसा न हो कि ये टंकी पर चढ़ जाए.”

मैंने कहा; “लेकिन मुझे तुम्हारी बात पर विश्वास नहीं हो रहा. मैं इसे सही नहीं मानता.”

मेरी बात सुनकर बोले; “तुमको जो मानना है वो मानो. लेकिन सच तो यही है कि लोग तुमसे परेशान है. समीर जी से चैट पर बात हो रही थी. वे भी तुमसे परेशान हैं. कह रहे थे कि पता नहीं मुझे भी क्यों मेल भेज देते हैं. मैं तो बिना मेल मिले ही टिप्पणियां करता हूँ. फिर ऐसे में मेल भेजकर परेशान क्यों करते हैं?”

मैंने कहा; “लेकिन समीर भाई से तो मैं कलकत्ते में जब मिला तो उन्होंने तो मुझे इस बात की शिकायत नहीं की.”

वे बोले; “ये उनका बड़प्पन है, जिसे तुम अपने लिए शाबासी मान रहे हो. कोई भला आदमी सबकुछ सामने कहकर तुम्हें लताड़े तब तुम्हें समझ में आएगा क्या?”

मैंने कहा; “तो क्या किया जाय? अब से मेल भेजना बंद कर दूँ क्या?”

मेरी बात सुनकर मुझे ऐसी नज़रों से देखा जैसे मेरे अन्दर की बेवकूफी को मीटर टेप लेकर नाप रहे हों. बोले; “तो क्या तब बंद करोगे जब लोग पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट लिखाना शुरू करेंगे?

नहीं, बोलो तुम कब बंद करना चाहते हो? तुम्हें पता है, आजकल चिट्ठाकार कौन सा गाना गाते रहते हैं?”

मैंने कहा; “नहीं मालूम. कौन सा गाना गा रहे हैं आजकल चिट्ठाकारगण”

वे बोले; “सब तुम्हारे और तुम्हारे साथियों के मेल से इतना डरने लगे हैं कि सारे एक ही गाना गा रहे हैं; ‘ज़रा सी आहट सी होती है तो दिल पूछता है, कहीं ये वो तो नहीं.’ सब इतना डरे हुए हैं तुम्हारे मेल देखकर.”

समझ में नहीं आया कि क्या कहूँ? मैं सोच ही रहा था कि कुछ कहूँ तब तक वे बोले पड़े; “और बाकी को तो जाने दो. ज्ञान जी ने एक दिन मुझसे कहा कि तुम उन्हें भी मेल भेज देते हो. जब उनका कमेन्ट ब्लाग पर नहीं मिलता तो एस एम एस देकर फिर से बताते हो ताकि वे तुंरत कमेन्ट करें. मुझसे कोई कह रहा था कि तुम ताऊ जी को भी फोन कर देते हो कि एक पोस्ट डाली है, देखिएगा. तुम्हें क्या लगता है? ताऊ जी भी स्टॉक मार्केट वाले हैं तो तुंरत आकर तुम्हें कमेन्ट देंगे? तंग रहते हैं वे भी तुमसे.”

लालमुकुंद जी ने इतनी खरी-खोटी सुनाई कि क्या कहूँ? सबकुछ लिखने जाऊँगा तो पोस्ट पंद्रह पेज की हो जायेगी.

इसलिए, मेरी तरह मेल भेजकर पढ़वाने और टिपियाने की एक्सरसाइज करने वाले मित्रों, चलो आज से ही वचन लें कि हम किसी को अब से मेल लिखकर अपनी कविताओं और अपने लेख का लिंक नहीं देंगे. अगर हमारे भाग्य में लिखा ही होगा कि हम परसाई, अज्ञेय, गालिब और दिनकर बनें तो हमें ये सब बनने से कोई नहीं रोक पायेगा. हम बनकर रहेंगे. मेल भेजें या न भेजें.

Shiv Kumar Mishra
Senior Reporter Lopak.in @shivkmishr

2,621 Comments

  1. Avatar
    September 25, 2019 - 3:23 pm

    Sebagai bandar taruhan uang asli judi pulsa selalu memberikan fasilitas bermain yang aman dan nyaman serta pembuatan id agen sbobet maupun maxbet dengan layanan yang ramah untuk memberikan pengalaman yang berharga bagi semua member FBO303 agen sbobet dalam hal bermain judi online uang asli dengan nyaman. Untuk layanan member kami tentu merupakan yang terbaik dan tidak perlu dipungkiri lagi.

    Reply
  2. Avatar
    September 26, 2019 - 8:10 am

    buy claravis accutane Plavix Copay Discount Card Controindicazioni Cialis Price Of Priligy Siti Sicuri Per Comprare Online Viagra Cheapeast Isotretinoin

    Reply
  3. Avatar
    September 26, 2019 - 11:08 am

    Lioresal Generique 25mg First Medicine Pharmacy Store Canada Amoxicillin For Bladder Infection viagra Amoxil Effets Acheter Viagra 30 Pilules Viagra 100mg What Is Viagra Super Active

    Reply
  4. Avatar
    September 26, 2019 - 1:30 pm

    I have not checked in here for some time because I thought it was getting boring, but the last several posts are great quality so I guess I will add you back to my everyday bloglist. You deserve it my friend ??

    Reply
  5. Avatar
    DrugFill
    September 27, 2019 - 2:03 am

    When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get several e-mails with the same comment. Is there any way you can remove people from that service? Appreciate it! https://cialisfavdrug.com

    Reply
  6. Avatar
    DrugFill
    September 27, 2019 - 2:54 am

    WOW just what I was searching for. Came here by searching for produksiyon hizmetleri https://cialisfavdrug.com

    Reply
  7. Avatar
    September 27, 2019 - 3:37 am

    Merely wanna comment on few general things, The website layout is perfect, the articles is rattling fantastic. “War is much too serious a matter to be entrusted to the military.” by Georges Clemenceau.
    Source: american cpr http://www.viapriceusa.com

    Reply
  8. Avatar
    September 27, 2019 - 8:11 am

    На сайте собрана самая большая база спецпредложений авиакомпаний. Редакция имеет прямые контакты со многими авиакомпаниями и получает информацию об акциях порой раньше, чем она публикуется на сайте самой авиакомпании.
    http://pinterest.com.mx/pin/719168634229574003/

    Reply
  9. Avatar
    September 27, 2019 - 11:08 am

    Simply want to say your article is as surprising. The clarity in your post is just nice and i can assume you are an expert on this subject. Fine with your permission let me to grab your feed to keep updated with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the rewarding work.
    what is sildenafil for

    Reply
  10. Avatar
    September 27, 2019 - 12:29 pm

    This is very interesting, You are a very skilled blogger. I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more of your excellent post. Also, I have shared your site in my social networks!
    sildenafil dosage for dogs

    Reply
  11. Avatar
    September 27, 2019 - 12:33 pm

    Normally I don’t read post on blogs, but I wish to say that this write-up very compelled me to check out and do so! Your writing style has been surprised me. Thanks, very great post.
    sildenafil without a prescription

    Reply
  12. Avatar
    Addicky
    September 27, 2019 - 1:08 pm

    quick and easy loans for bad credit payday express

    Reply
  13. Avatar
    September 27, 2019 - 4:15 pm

    Awesome post. I’m a regular visitor of your site and appreciate you taking the time to maintain the excellent site. I will be a regular visitor for a long time.

    Reply
  14. Avatar
    September 27, 2019 - 5:15 pm

    Thanks for the strategies presented. One thing I should also believe is always that credit cards giving a 0 interest often entice consumers in zero rate of interest, instant acceptance and easy online balance transfers, however beware of the top factor that may void your own 0 easy streets annual percentage rate and also throw you out into the bad house in no time.

    Reply
  15. Avatar
    September 27, 2019 - 5:19 pm

    One other important issue is that if you are an older person, travel insurance regarding pensioners is something you ought to really look at. The mature you are, greater at risk you happen to be for permitting something awful happen to you while in another country. If you are not really covered by several comprehensive insurance, you could have many serious challenges. Thanks for expressing your guidelines on this blog site.

    Reply
  16. Avatar
    Dratdill
    September 28, 2019 - 3:35 am

    personal loan for bad credit money loans

    Reply
  17. Avatar
    September 28, 2019 - 6:17 pm

    I together with my buddies came studying the great secrets found on your web site and then immediately I had a terrible suspicion I had not thanked you for those strategies. The young boys came absolutely very interested to learn all of them and have in effect seriously been using those things. Thank you for indeed being very considerate and also for deciding on such outstanding subject areas millions of individuals are really desperate to be aware of. Our sincere regret for not expressing appreciation to earlier.

    Reply
  18. Avatar
    September 28, 2019 - 6:20 pm

    The Basic Facts of Bet365 Bingo Reviews. Bet365 offers UK players an opportunity to play many diverse games, more than 1 bonus choice to pick from.

    Reply
  19. Avatar
    September 28, 2019 - 7:04 pm

    Thank you for the sensible critique. Me & my neighbor were just preparing to do some research about this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more from this post. I’m very glad to see such great information being shared freely out there.
    forhims sildenafil review

    Reply
  20. Avatar
    September 28, 2019 - 8:48 pm

    Hey there, You’ve done a great job. I’ll certainly digg it and in my view recommend to my friends. I’m sure they will be benefited from this website.

    Reply
  21. Avatar
    MevydewS
    September 28, 2019 - 10:15 pm

    how to get a loan with bad credit pay day loans

    Reply
  22. Avatar
    DombViok
    September 28, 2019 - 11:04 pm

    payday loans portland oregon payday loans

    Reply
  23. Avatar
    September 29, 2019 - 8:29 am

    In general, the majototo site is the stabilized work part of the center

    Reply
  24. Avatar
    September 29, 2019 - 2:01 pm

    I’m just writing to make you know what a wonderful encounter our daughter undergone going through your blog. She learned a good number of details, which include what it’s like to possess a marvelous coaching nature to make many people effortlessly completely grasp selected advanced issues. You undoubtedly did more than people’s expected results. Many thanks for distributing the warm and helpful, healthy, explanatory not to mention easy thoughts on your topic to Gloria.

    Reply
  25. Avatar
    September 29, 2019 - 4:03 pm

    There is noticeably a bundle to learn about this. I assume you made sure nice points in options also.

    Reply
  26. Avatar
    September 29, 2019 - 7:01 pm

    Isotretinoin Secure Ordering Overseas Levitra Generique Maroc

    Reply