अब अप्रवासी भारतीयों पर लगा “मोदी-भक्त” होने का टैग, ज़मीनी हकीकत से दूर भागते लिबरल बुद्धिजीवी

जब आप बुद्धिजीवी स्तर तक पहुंच जाते हकने तो आमतौर पर बुद्धिजीवियों को द्वेष, ईर्ष्या, अहंकार और दंभ से ऊपर माना जाता है. दूसरे देशों में ऐसा होता होगा, भारत में स्थितियां थोड़ी अलग है. यहां ऐसा प्रतीत होता है कि भारत में जो बुद्धिजीवी हुआ, वह ज़्यादातर इन अवगुणों की भेंट चढ़ जाता है. एक लिबरल और डेमोक्रेटिक सोसाएटी के अंदर बुद्धिजीवियों के कौशल और ज्ञान को काफी ऊपर कहा जाता है.

लेकिन कई बार यह ज्ञान अहंकार की मुद्रा में आपके समक्ष खड़ा रहता है. ऐसे ही एक बुद्धिजीवी हैं, देवदत्त पटनायक. उनको भारतीय संस्कृति, सभ्यता और पुराणों का स्वयंभू ज्ञाता माना जाता है. अमेरिका में हुए हाउडी मोदी कार्यक्रम पर देश के अप्रवासी भारतीयों पर उनका एक कटाक्ष आया. उन्होंने ट्वीट किया कि आप पहले देश का पासपोर्ट और नागरिकता छोड़ दें और उसके बाद ऐसा दिखाएं जैसे उओ इस देश की माटी से प्रेम करते हैं. यह वैसा ही है जैसा एक व्यक्ति किसी धनी महिला से विदेश में विवाह रचाये फिर भी यह दिखाए जैसे वो गाँव में रह रही अपनी रोती हुई बूढ़ी माँ की बहुत चिंता करता हो.

देवदत्त का यह ट्वीट अहंकार को स्पष्ट दिखा रहा था. लेकिन यदि उन्हीं के तर्क लर जाएं तो हमारे देश में यही अप्रवासी भारतीय है जिनके कारण कई माताएं बहनें रोने से बच जाती हैं. क्योंकि यह अपना थोड़ा पैसा भारत में भी इन्वेस्ट करते हैं. वह कोई एहसान नहीं बल्कि अपना कर्तव्य निभाते हैं. किसी कालखंड में संभावनाओं की तलाश में उन्हें यह देश छोड़कर जाना पड़ा. समय के अनुसार उनको इन देश की नागरिकता को छोड़ना पड़ा. क्योंकि उनकी एक आर्थिक और सामाजिक मजबूरी उस समय रही हो.लेकिन यदि देशभक्ति का प्रमाण आपकी नागरिकता ही है, तो देश के नागरिक तो वो भी हैं जो इसी देश की एक प्रख्यात यूनिवर्सिटी में भारत विरोधी नारे लगाते हैं. देश के नागरिक तो अरबों रुपयों के भ्रष्टाचार में फंसे नेता भी हैं. वो भी देश के ही नागरिक थे जो इसी देश का पैसा लूटकर विदेश भाग गए. क्या उन सभी के लिए देशभक्ति का कोई मापदंड है? यदि होता तो तौलकर देख लिया जाता. लेकिन यहां प्रश्न बड़ा है.

आर्थिक दृष्टि से थोड़ा देखते हैं. प्रतिवर्ष देश के अप्रवासी भारतीय इस देश में 70 बिलियन डॉलर्स यानी करीब-करीब 4.2 लाख करोड़ भारत भेजते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि यह देश की सरकार का विभिन्न योजनाओं पर खर्च किये जाने वाले पैसे से मात्र 25% ही कम है. सरकार हर वर्ष विभिन्न योजनाओं पर 94 बिलियन डॉलर्स खर्च करती है. 30 साल पहले जब देश के अंदर आर्थिक आपातकाल जैसी परिस्थितियां थी, उस समय देश के वित्त मंत्री मनमोहन सिंह (जो आगे चलकर प्रधानमंत्री भी बने) ने देश का सोना वर्ल्ड बैंक में गिरवी रख डॉलर्स ही बदले में लिए थे. ज्ञानी लोगो को पता है कि विश्व पटल पर डॉलर ही एक सर्वस्वीकार्य मुद्रा है. आज यही अप्रवासी भारतीय उसी डॉलर्स की शक्ल में देश की अर्थव्यवस्था में एक बेहतर भूमिका निभा रहे हैं.

इससे भी बड़ी बात. गांधी, नेहरू, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, सरदार पटेल जैसे नेता एक समय लर अप्रवासी भारतीय ही थे. क्या राष्ट्र के लिए उनका योगदान आप भुला देंगे? राष्ट्र के बाहर यही अप्रवासी भारतीय देश के प्रहरी हैं. इस देश के ब्रैंड अम्बेसडर हैं. दुनिया में भारत की विदेश नीति का एक अहम बिंदु यही अप्रवासी भारतीय है. एक बेहतर जीवन शैली का हकदार हर व्यक्ति होता है. सभी को यह अधिकार है. इस दिशा में यदि उसे देश की नागरिकता छोड़ने का एकमात्र विकल्प दिया जाये तो वह भी उसके लिए एक कठिन क्षण होता है. लेकिन ऐसी स्थिति में भी वह यह सुनिश्चित करता है कि वह अपने देश के लिए काम आए. अमेरिका में 70% भारतीय पढ़े लिखे हैं. अमेरिका में रह रहे पढ़े लिखे अप्रवासियों में से भारतीयों की संख्या सबसे अधिक है.

ऐसी परिस्थितियों में क्या इस देश के अप्रवासी भारतीयों पर ऐसा कटाक्ष उचित है? क्योंकी यह एक प्रकार से उनका मनोबल गिराना है. 2018 में विश्व बैंक की रिपोर्ट ने कहा था कि भारत विश्व का सबसे अधिक प्रेषित धन प्राप्त करने वाला देश है. यानी साथ समुंदर पार भी देश के अप्रवासी भारतीय गंगा का पानी नहीं भूले. किसी नेता के प्रति आपकी व्यक्तिगत नाराज़गी हो सकती है. उसकी विचारधारा और कार्यशैली से आप इत्तेफाक न रखते हो लेकिन उसको घेरने के लिए देश के एक बड़े जनमानस को ऐसे कलंकित करना कम से कम उनको तो कतई शोभा नहीं देता जो लिबरल बुद्धिजीवी कहे जाते हैं.

Tags: ,

17 Comments

  1. Avatar
    September 27, 2019 - 6:08 am

    Modules rated at different speeds may be run in dual-channel
    mode, although the motherboard will then run all reminiscence modules on the speed of the slowest module.
    Therefore the smartest thing to do in case you are
    not sure of the sender of the email is to save lots of the file on exhausting disk, scan it through
    the use of reliable anti-virus software after which open it
    whether it is safe. Many pc users assume that mails
    which have been sent by the identified customers is protected.
    Some motherboards, nonetheless, have compatibility points with sure brands or models of memory when trying
    to make use of them in dual-channel mode. However, unbuffered
    (not-registered) ECC reminiscence is obtainable, and a few non-server motherboards help ECC performance of such modules when used with a CPU that
    helps ECC. Several motherboard manufacturers
    only support configurations where a “matched pair”
    of modules are used. Dual-channel structure requires a dual-channel-capable
    motherboard and two or extra DDR, DDR2 SDRAM, or DDR3
    SDRAM memory modules. https://www.qatar.vcu.edu/?URL=http://itexamall.com/

    Reply
  2. Avatar
    September 29, 2019 - 4:23 am

    Good day! This is kind of off topic but I need some help from an established blog.
    Is it hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty fast.
    I’m thinking about making my own but I’m not sure where to
    start. Do you have any points or suggestions?
    Appreciate it

    Reply
  3. Avatar
    September 30, 2019 - 5:09 am

    Admiring the dedication you put into your blog and in depth information you
    provide. It’s great to come across a blog every once in a while that isn’t the same out of date rehashed material.
    Fantastic read! I’ve bookmarked your site and I’m
    adding your RSS feeds to my Google account.

    Reply
  4. Avatar
    September 30, 2019 - 5:56 am

    This is really interesting, You are a very skilled blogger.
    I have joined your feed and look forward to seeking more of your excellent
    post. Also, I have shared your web site in my social networks!

    Reply
  5. Avatar
    September 30, 2019 - 8:05 am

    Spot on with this write-up, I really believe that this website needs far more attention. I’ll probably be returning to read through
    more, thanks for the advice!

    Reply
  6. Avatar
    September 30, 2019 - 8:07 am

    Thanks for your personal marvelous posting! I really enjoyed reading it, you’re a great author.
    I will ensure that I bookmark your blog and will eventually
    come back later on. I want to encourage yourself to
    continue your great writing, have a nice morning!

    Reply
  7. Avatar
    October 2, 2019 - 3:34 am

    I’m not sure exactly why but this blog is loading incredibly slow for
    me. Is anyone else having this issue or is it a problem on my
    end? I’ll check back later on and see if the problem still exists.

    Reply
  8. Avatar
    October 2, 2019 - 7:18 am

    That is a really good tip especially to those fresh to the blogosphere.
    Simple but very accurate information… Many thanks for sharing this one.

    A must read article!

    Reply
  9. Avatar
    October 2, 2019 - 12:55 pm

    This paragraph will help the internet users for building up new website or even a blog from start to end.

    Reply
  10. Avatar
    October 2, 2019 - 10:11 pm

    Currently it seems like Movable Type is the preferred blogging platform available right
    now. (from what I’ve read) Is that what you are using on your blog?

    Reply
  11. Avatar
    October 2, 2019 - 10:22 pm

    magnificent publish, very informative. I wonder why the opposite specialists of this sector don’t notice this.
    You should proceed your writing. I am sure, you’ve a
    great readers’ base already!

    Reply
  12. Avatar
    October 3, 2019 - 12:22 am

    If you would like to take a good deal from this piece of writing then you have to
    apply such methods to your won web site.

    Reply
  13. Avatar
    October 3, 2019 - 2:00 am

    We stumbled over here by a different web address and thought I might as well check things out.
    I like what I see so i am just following you. Look forward to looking over your web page yet again.

    Reply
  14. Avatar
    October 3, 2019 - 3:07 am

    Hi to all, it’s actually a good for me to visit this site,
    it consists of important Information.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *