शुरू किया लिबरल्स ने सारंगी के ख़िलाफ़ प्रोपेगंडा, वर्षों पहले की गई हत्या को सारंगी से जोड़ा

ओडिशा के नवनिर्वाचित भाजपा सांसद प्रताप चंद्र सारंगी जब से चुनाव जीते हैं, मीडिया/ सोशल मीडिया पर स्टार बन गए हैं. ‘सादा जीवन उच्च विचार’ की नीति अपनाने वाले सारंगी बेहद ही विनम्र स्वभाव के हैं और सादगी से अपना जीवन व्यतीत करते हैं. चुनाव के बाद उनके गाँव और घर की तस्वीरें वायरल हो गई थी. उन्हें कल मंत्री परिषद में शामिल कर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय और पशुपालन, डेयरी और मत्स्य मंत्रालय के राज्य मंत्री का प्रभार दिया गया.

लिबरल्स को यह सच्चा आम आदमी रास नहीं आ रहा. कल से ही सोशल मीडिया पर 1999 में हुए मिशनरी ग्राहम स्टेंस की हत्या से उनका नाम जोड़ा जा रहा है. मिशनरी गतिविधियों के चलते ग्राहम की हत्या उनके दो बच्चों समेत बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ताओं ने की थी. BBC ने कल प्रताप सारंगी को इस हत्या से जोड़कर उनके ख़िलाफ़ लेख छापा.

BBC के अनुसार जिस वर्ष ग्राहम की हत्या की उस समय प्रताप बजरंग दल के नेता थे. सारंगी पर सीधे तौर पर आरोप लगा गया, यह कहते हुए कि वो हत्या में शामिल थे.

सच यह है कि इस हत्या के लिए बजरंग दल से जुड़े एक कार्यकर्ता दारा सिंह और 12 अन्य को 2000 में ही दोषी क़रार दिया गया था. हत्या की जाँच का ज़िम्मा वाधवा कमिटी को दिया गया था. हालांकि इसने यह स्पष्ट कर दिया था कि बजरंग दल एक संगठन के रूप मे इस हत्या में शामिल था, ऐसे कोई भी सबूत नहीं मिले हैं. ऐसे में इस हत्या में सारंगी का नाम आना ऐसा है जैसे किसी परिवार के सदस्य का किसी अपराध में लिप्त होने पर पूरे परिवार को दोषी ठहराना.

मिशनरी गतिविधियों के कारण ग्राहम और उनके साथियों के ख़िलाफ़ बढ़ते रोष को देख पुलिस ने उन्हें वहाँ से जाने के लिए भी कहा था. ग्राहम ने इस बात को माना था कि वो और उनके साथी धर्म परिवर्तन की गतिविधियों में लिप्त थे. वाधवा आयोग की रिपोर्ट में यह भी स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि स्टेंस के खिलाफ स्थानीय लोगों में गुस्सा था.

इंडिया टुडे के साथ एक इंटरव्यू में दारा सिंह ने कहा था कि उन्होंने ग्राहम की हत्या नहीं की, हालाँकि वो मिशनरियों के ख़िलाफ़ थे. गौ हत्या के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के चलते वो अपने इलाक़े में काफ़ी प्रसिद्ध थे.इसलिए इस हत्या के बाद पुलिस ने सीधे उन पर शक किया. उनका कहा था कि मिशनरी छल और प्रलोभनों द्वारा हिंदुओं का धर्मान्तरण करते रहे हैं. एक सच्चे हिंदू के रूप में, उनका विरोध करना दारा सिंह की जिम्मेदारी थी. इसलिए उन्होंने अपने क्षेत्र में धर्मांतरण और गोहत्या के खिलाफ लोगों को संगठित करने का काम किया. दारा सिंह के अनुसार वो किसी भी तरह से बजरंग दल या RSS से जुड़े नहीं थे.

लिबरल्स के दोमुँहेपन पर दुःख जताया जाए या मखौल उड़ाया जाए, इस बार पर हम असमंजस में आ जाते हैं. कहने के लिए तो ममता बनर्जी भी सादा जीवन व्यक्त करती हैं, पर मजाल है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हत्या को किसी भी तरह से को ममता बनर्जी से जोड़ दे. सारंगी जी के मामले में तो दारा सिंह द्वारा की गयी हत्या ना तो बजरंग दल के कहने पर की गयी थी, ना ही सारंगी का उसमें हाथ था, ना उन्होंने दारा सिंह का कभी भी बचाव किया. वहीं ममता बैनर्जी तो इस बात को मानने को भी तैयार नहीं हैं कि 54 कार्यकर्ताओं की हत्या में उनकी पार्टी का किसी भी तरह से हाथ है. ममता ही क्यों मीडिया लालू यादव के भी गुणगान करते नहीं थकती. लालू के राज में आपराधिक गतिविधियों की कहानी आप किसी भी बिहारी से पूछ सकते हैं. पर आज भी मीडिया लालू के बारे में इस तरह से बात करती है जैसे उन्होंने बिहार में बहुत क्रांतिकारी कार्य किए हों.

Rashmi Singh
Writer by fluke, started with faking news continuing the journey with Lopak.

12 Comments

  1. Avatar
    June 1, 2019 - 8:11 pm

    I am really grateful to the owner of this web page who has
    shared this enormous paragraph at here.

    Reply
  2. Avatar
    June 2, 2019 - 7:37 pm

    Just be positive that the people who you interview pertain to your market of the blog.
    Did you think ” I’ve seen it all before.” and feel like it’ll be deemed a waste of
    one’s to cling? https://918kiss.poker/downloads

    Reply
  3. Avatar
    June 2, 2019 - 7:38 pm

    Just be positive that the people who you interview pertain to your market of
    the blog. Did you think ” I’ve seen it all before.” and feel like it’ll be deemed a waste of one’s to cling? https://918kiss.poker/downloads

    Reply
  4. Avatar
    June 3, 2019 - 10:03 am

    Hi, Nеat post. There is an issue together with your site in web
    explorer, would test thіs? IE stilⅼ iis tһe market leɑder and a largе prt of other people will mias
    your magnificеnt writing due to this problem.

    Reply
  5. Avatar
    June 6, 2019 - 1:05 am

    Nice post. I waѕ checking constantly this weblog and I’m impressed!
    Very useful information particularly the last part 🙂 І care for
    such info much. I was lookіing foor this certain information for a very lengthy time.
    Thanks and good lucҝ.

    Reply
  6. Avatar
    June 11, 2019 - 12:40 am

    Neat blog! Is yߋur theme custom made or Ԁid уou download it from somewhere?
    A design likе yoᥙrs with a few simpⅼe adjustements wⲟuld
    really mawke my blog shine. Please let me kbow where you got you theme.

    Thank you

    Reply
  7. Avatar
    July 5, 2019 - 6:53 am

    You can drive visitors to your store by establishing advertising emplacement.
    Theey have been marketing for several years
    without even knowing out. So where’s the glory or who or specifically
    what do you glorify? https://kslot.app/index.php/games/918kiss

    Reply
  8. Avatar
    July 5, 2019 - 6:53 am

    You ccan drive visitors to your store by establishing advertising emplacement.
    Theyy have bden marketing for several years without even knowing out.

    So where’s the glory orr who or specifically what do you glorify? https://kslot.app/index.php/games/918kiss

    Reply
  9. Avatar
    July 11, 2019 - 6:34 am

    Fine waʏ of describing, and nice artiicle too takе facts concerning my presentation subject matter,
    ѡhіch i am going to present in university.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *