केजरीवाल खेल रहे हैं आखिरी दांव, सरकारी ख़ज़ाने से अब मुफ्त में बटेंगी सुविधाएं

लोकसभा में कई पैंतरे आज़माने के बाद भी केजरीवाल एंड पार्टी की करारी हार हुई. इस के चलते अरविन्द केजरीवाल अब डैमेज कंट्रोल में लगे हैं. उन्होंने ऐलान किया है कि सरकार महिलाओं के लिए डीटीसी बसों और मेट्रो में फ्री सफर की स्कीम लाने की प्लानिंग कर रही है.  

दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया, “सरकार महिलाओं के लिए सार्वजनिक परिवहन मुफ्त करने की योजना बना रही है. ऐसा करने से दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन, दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन और क्लस्टर स्कीम बसों को होने वाले नुकसान का वहन खुद करेगी.”
केजरीवाल ने दावा किया कि आम आदमी पार्टी सरकार इस स्कीम के लिए पैसे बचा रही है. सरकार की इस स्कीम से सरकारी ख़ज़ाने पर 1200 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ेगा.

केजरीवाल ने इस खर्च पर सफाई देते हुए कहा कि ये मेरा अपना पैसा नहीं है, ये वही पैसा है जो पिछली सरकार के पास था, हमने कोई टैक्स नहीं बढ़ाया और भ्रष्टाचार खत्म करके बहुत पैसा बचा रहे हैं. केजरीवाल ने कहा कि आप सरकार को आगे बढ़ाने के लिए आपके आशीर्वाद की जरूरत है. ऐलान करने के साथ ही केजरीवाल इस बात पर दिल्लीवालों से वोट माँगना नहीं भूले.  इससे साफ़ नज़र आता है कि उनकी मंशा केवल अगले चुनाव में किसी भी तरह से जनता को बहला फुसला कर वोट मांगने की है, न कि जनता की सेवा की.

केजरीवाल सरकार बिजली के फिक्स चार्ज को भी काम करने का मन बना रही है. सोचने वाली बात यह है कि केजरीवाल ने अचानक ही जनता की सुध क्यों ली. दिल्ली के लोग बिजली पानी की समस्याओं के अलावा और भी कई समस्याओं से जूझ रहे हैं. केजरीवाल की शिक्षा क्रांति का कच्चा चिट्ठा हम पहले ही खोल चुके हैं.

अब बात यह भी है कि नारी शक्ति को बढ़ावा देने के लिए मुफ्त में ये सुविधाएं क्यों? क्या नारी की सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं देना चाहिए? क्या यह पैसा सरकार को हर जगह CCTV और पुलिस द्वारा निगरानी बढ़ाने के लिए नहीं लगाना चाहिए?

पर केजरीवाल सोशलिस्ट थे और रहेंगे, उनको पता है चुनाव में बिजली और पानी का ढिंढोरा पीटना आसान है. लोग वैसे भी पुरानी बातें याद नहीं रखते तो अगर आखिरी छह महीनो में बिजली पानी के खर्चे कम कर दिए जाएं तो शायद दिल्ली बच जाए. मंशा कुछ ऐसी ही है.

Rashmi Singh
Writer by fluke, started with faking news continuing the journey with Lopak.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *