राजस्थान कांग्रेस में दरार

कांग्रेस की हाल ही हुए लोकसभा चुनावों में हार का असर अब दिखने लगा है. जहाँ प्रियंका गांधी ने पार्टी में ऐसे लोगों को दोष दिया जिन्होंने पार्टी से पहले अपने बेटों के बारे में सोचा. वहीं अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सचिन पायलट को अपने बेटे की हार का ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं.

एबीपी न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में जब पूछा गया कि क्या यह सच है कि पायलट ने जोधपुर सीट के लिए वैभव के नाम की सिफारिश की थी, तो गहलोत ने कहा; “अगर वह (पायलट) ऐसा कहते हैं तो यह अच्छी बात है, इससे मीडिया की हम दोनों के बीच मतभेद की ख़बरें झूठी साबित होती हैं.” पर इसके तुरंत बाद ही उन्होंने ख़ुद ही कुछ ऐसा कहा जिससे मतभेद की बात साफ़ हो गयी. उन्होंने कहा; ”पायलट साब ने यह भी कहा कि हम जोधपुर को बड़े अंतर से जीतेंगे, क्योंकि हमारे छह विधायक हैं और हमारा चुनाव अभियान शानदार था.

इसलिए मुझे लगता है कि कम से कम उस सीट के लिए उनकी खुद की जिम्मेदारी होनी चाहिए. जोधपुर सीट क्यों नहीं मिली, इसका पता लगाने के लिए चुनाव परिणामों का पूरा पोस्टमार्टम होना चाहिए.”

जब उनसे पूछा गया कि क्या वह सच में मानते हैं कि जोधपुर में हार पायलट की जिम्मेदारी थी? तो गहलोत ने जवाब दिया; ” पायलट ने कहा कि हम जोधपुर से जीत रहे थे और उन्होंने जोधपुर का टिकट वैभव के लिए लिया है. लेकिन हम सभी 25 सीटें हार गए. अगर कोई कहता है कि सीएम या पीसीसी चीफ को इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए, तो मेरा मानना है कि यह एक सामूहिक जिम्मेदारी है.”

कुछ ही दिनों पहले सचिन पायलट के क़रीबियों ने चुनाव में हार का कारण गहलोत की कार्यशैली को बताया था, जिसके बाद ही गहलोत ने पायलट के बारे में यह बयान दिया.

साक्षात्कार में गहलोत ने जोर देकर कहा कि हार का बीड़ा सबको मिलकर उठाना होगा. अगर कोई जीतता है, तो हर कोई क्रेडिट चाहता है लेकिन अगर कोई नुकसान होता है, तो कोई भी जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं है. चुनाव सामूहिक नेतृत्व में होते हैं.

उन्होंने आगे कहा;  ”वैभव 4 लाख से अधिक मतों के अंतर से केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से हार गया. यहां तक कि सरदापुरा विधानसभा क्षेत्र में जो 1998 से गहलोत की सीट रही है, जब वे पहली बार सीएम बने. वहाँ भी वैभव लगभग 19,000 वोटों से पीछे थे.

जोधपुर में कांग्रेस की हार चौंकाने वाली है क्योंकि गहलोत ने लोकसभा में पांच बार सीट का प्रतिनिधित्व किया था.यह बात साफ़ है कि राजस्थान कांग्रेस के दिग्गजों में फूट पड़नी शुरू हो चुकी है. पर सबसे ज़्यादा चौकने वाली बात यह है कि कांग्रेस के किसी भी नेता ने अभी तक गांधी परिवार पर एक भी सवाल नहीं उठाया है, जो कहीं ना कहीं हार का असली कारण हैं. 

Rashmi Singh
Writer by fluke, started with faking news continuing the journey with Lopak.

1 Comment

  1. Avatar
    June 18, 2019 - 9:05 pm

    I am regular visitor, how are you everybody? This post
    posted at this website is genuinely pleasant. Maglia Calcio Fiorentina

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *