ओपिनियन पोल के पीछे का गणित

लोकसभा चुनाव 2019 आरम्भ हो चुके है. हालांकि इसके नतीजे तो 23 मई को ही पता चलेंगे लेकिन इन डेढ़ महीनों में हम ओपिनियन पोल्स की बाढ़ देखेंगे. हर चैनल का अपना अलग ओपिनियन पोल होता है. हममें से बहुत से लोगो को ऐसे ओपिनियन पोल से ही पता लगाने की कोशिश करते हैं कि चुनावी हवा किस तरफ बह रही है. बहुत कम लोग ही इसके पीछे लगे विज्ञान या उसके तरीके पर सवाल उठाते हैं.

क्या सारे पोल ‘आपको क्या लगता है’ पर ही निर्भर हैं? क्या यह सभी आपके मन की भावना/ विचारों पर आधारित हैं या इसके पीछे कुछ विज्ञान भी है?

मतदाताओं के वोट का अनुमान लगाने के लिए हर एग्जिट/ओपिनियन पोल लगा रहता है कि कैसे यह पता लगाया जाए कि एक मतदाता किस पार्टी या गठबंधन को वोट देगा. इसका पता लगाने हेतु वे सैंपल्स का इस्तेमाल करते हैं और बताते हैं कि कौन सा गठबंधन या पार्टी जीतेगी. हालांकि हम यहां वोट प्रतिशत/शेयर की जगह इस विषय पर बात करेंगे कि ये वोट कैसे सीट में बदलते हैं. भारत की विशालता और विविधता को देखते हुए सैंपल सही प्रकार से तैयार करना आवश्यक हो जाता है. अधिकतर ओपिनियन पोल यह कोशिश करते हैं कि विभिन्न प्रकार के ऐसे सांख्यिकीय मॉडल का प्रयोग करे हैं जिससे उनका सैंपल सही आये. बाजार में खड़े होकर हर आते जाते व्यक्ति से यह पूछना कि वह चुनावों में किसे वोट देगा, किसी एक लोकसभा, राज्य या देश के मूड को भांपने का सही तरीका नहीं हो सकता. लोगों की राय बदलती है.

लोपक ने Ihatestatistics.com, decorrespondent.nl, Maarten Lambrechts and Peilingen की कुशल टीम के साथ काम करके http://rocknpoll.graphics/ का हिन्दी वर्जन तैयार किया है जिसे आप यहाँ देख सकते हैं।

तैयार किए गए सैंपल पर ओपिनियन पोल करने के बाद यह पता लगाने का प्रयास किया जाता है कि पार्टियां या गठबंधन चुनावों में कितनी सीटें को जीतेंगे. इसलिए प्रोफेशनल द्वारा विभिन्न सांख्यिकी और गणितीय मॉडल का इस्तेमाल कर यह पता लगाया जाता है. लेकिन इन गणनाओं में त्रुटि की संभावना हमेशा रहती है. वस्तुतः तभी असली नतीजा अनुमानों से हमेशा अलग होता है. वास्तविक परिणाम हमेशा अनुमानों से अलग होंगे लेकिन कुछ ओपिनियन पोल करने वालों के अनुमान बुरी तरह से गलत सिद्ध होते हैं.

लेकिन अपने पोल को बुरी तरीके से गलत साबित होने से बचाने के लिए पोल करने वाले पार्टियों या गठबंधन के लिए सीटों का एक रेंज देते हैं. इस रेंज को ही मार्जिन ऑफ एरर कहा गया है. ओपिनियन पोल बनाने के पूरे तरीके की पूरी व्याख्या बहुत उबाऊ है जिसे समझना भी मुश्किल होता है. इसलिए नीचे दिया हुआ डेमोंसट्रेशन बताता है कि कैसे एक छोटा सा मार्जिन ऑफ एरर, सीट की जीत और हार में बड़ी भूमिका निभाता है.

9 Comments

  1. Avatar
    May 3, 2019 - 12:01 pm

    An outstanding share! I have just forwarded this onto a co-worker who had been conducting
    a little research on this. And he actually ordered me breakfast because I stumbled
    upon it for him… lol. So allow me to reword this….

    Thanks for the meal!! But yeah, thanks for spending the time to talk about this subject here on your internet site.

    Reply
  2. Avatar
    May 4, 2019 - 5:55 am

    I pay a visit everyday some web sites and
    sites to read posts, but this website provides quality
    based content.

    Reply
  3. Avatar
    May 8, 2019 - 9:13 am

    Fantastic website. Lots of useful info here. I’m sending it to several
    buddies ans also sharing in delicious. And naturally, thanks on your sweat!

    Reply
  4. Avatar
    May 13, 2019 - 11:32 pm

    magnificent issues altogether, you just won a
    logo new reader. What may you suggest about your put up that you
    simply made some days ago? Any positive?

    Reply
  5. Avatar
    May 28, 2019 - 7:26 pm

    Magnificent goods from you, man. I have take note your stuff prior to and you are simply too fantastic.
    I actually like what you have received here, really
    like what you’re saying and the way in which through which you are saying it.
    You make it enjoyable and you continue to care for
    to keep it smart. I can not wait to learn far more from you.

    That is really a tremendous web site.

    Reply
  6. Avatar
    May 30, 2019 - 1:26 am

    hey there and thank you for your information – I’ve definitely picked
    up something new from right here. I did however expertise
    some technical points using this web site, since I experienced to reload the site many times previous to I could get it to load correctly.
    I had been wondering if your web host is OK? Not that I am complaining, but
    slow loading instances times will sometimes affect your placement in google and could damage your high-quality score if advertising
    and marketing with Adwords. Well I am adding this RSS to my e-mail and can look out for a lot
    more of your respective intriguing content.
    Make sure you update this again soon.

    Reply
  7. Avatar
    May 30, 2019 - 10:10 pm

    Nice post. I was checking constantly this weblog and I am inspired!
    Extremely helpful info specially the final phase 🙂 I handle such information much.

    I used to be seeking this particular information for a long time.
    Thank you and good luck.

    Reply
  8. Avatar
    June 6, 2019 - 12:10 pm

    Asking questions are truly fastidious thing if you are
    not understanding something fully, but this post offers nice understanding even.

    Reply
  9. Avatar
    June 7, 2019 - 3:03 pm

    Hi there! I know this is kinda off topic however
    I’d figured I’d ask. Would you be interested in exchanging links or maybe guest
    authoring a blog post or vice-versa? My blog addresses a lot of the same subjects as
    yours and I feel we could greatly benefit from each other.
    If you might be interested feel free to send me an e-mail.
    I look forward to hearing from you! Excellent blog by the way!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *