हिन्दूओं की स्थिति पर गहन चिन्तन की बेला है 2019 चुनाव

दोस्तों, इकोलॉजी में ‘कंपीटिटिव एक्सक्लूशन प्रिंसिपल’ नामक एक अवधारणा है. सिद्धांत यह है कि एक ही संसाधन के लिए प्रतिस्पर्धा करने वाले दो जीव दीर्घकालिक समय के लिए सह-अस्तित्व में नहीं रह सकते.

सीधे शब्दों में कहें, अगर उनमें से एक, दूसरे की तुलना में सिर्फ 1% अधिक प्रभावी है, तो यह 1% का लाभ कई पीढ़ियों पर होगा. 

एक प्रसिद्ध वास्तविक जीवन का उदाहरण अफ्रीका में विक्टोरिया की झील में नील पर्च नामक मछली का प्रादुर्भाव है, जिसके कारण प्रचंड आक्रामक नील पर्च से प्रतिस्पर्धा के कारण कई प्रकार की देशी मछलियां गायब हो गईं. यह सिद्धांत आमतौर पर जानवरों पर लागू किया जाता है, लेकिन याद रखें, मनुष्य भी जानवर जैसा ही है.

यह तर्क मानव समाज में भी लागू होता है. कल्पना कीजिए कि अगर हमारे पास समान ग्राहकों के लिए 2 दुकानदार प्रतिस्पर्धा करते हैं. इसमें जो अधिक आक्रामक है, अधिक केंद्रित है, अधिक ग्राहकोन्मुख है और यहां तक कि गंदी चाल चलने पर विश्वास रखता है, वो निश्चित रूप से अपने प्रतिद्वंदी दुकानदार से आगे निकल जायेगा. जो अभी भी ‘चलता है’ वाले एटीट्यूड में जी रहा है,  इसको ‘सर्वाइवल ऑफ द फिटेस्ट’ भी कह सकते हैं. 

इस सिद्धांत को धर्मों पर लागू करते हुए एक बार देखते हैं. पिछली शताब्दी में अनुयायियों के लिए प्रतियोगिता में हिंदुत्व का इतिहास इस्लाम से प्रतिस्पर्धा की स्थिति में गिरावट का एक कारण है.

इस्लाम के आगमन से पहले, अफगानिस्तान से इंडोनेशिया तक हिंदू धर्म या बौद्ध धर्म का प्रचलन था. इस्लाम के आगमन के बाद की शताब्दियों में, हिंदुत्व धीरे-धीरे पूर्व और पश्चिम दोनों से सिकुड़ रहा है.

सिंध 712 ई. में बिन कासिम से हार गया था. 9 वीं -10 वीं शताब्दी में पंजाब और अफगानिस्तान के हिंदू शाहियों की हार से उन क्षेत्रों का नुकसान हुआ. 11-13वीं शताब्दी में दक्खन में गंगा के मैदानों में विस्तार करने वाले सल्तनतों से, 14 वीं और 15 वीं शताब्दी में पठारों पर राज करने वालो तक, मुगल साम्राज्य ने 16 वीं से 18 वीं शताब्दी तक अधिकांश उपमहाद्वीप पर शासन किया. इस्लाम की निरंतर लहरों ने हिंदुत्व को विस्थापित कर दिया.

पूरब में भी, आज जो इंडोनेशिया है, वह काफी हद तक विभिन्न शासकों के अधीन हिंदू प्रथाओं का पालन करता है. जैसे कि श्रीविजय और माजापहिट, लेकिन यह समय के साथ विस्थापित हो गए.

आमतौर पर इस्लाम द्वारा क्रूर उत्पीड़न जैसे गैर-मुस्लिमों पर जजिया लगाया गया. आज हिंदू धर्म का पालन बाली के सुंदर लेकिन छोटे द्वीप में किया जाता है. इस प्रकार, ऐतिहासिक प्रवृत्ति हर कुछ शताब्दियों में बाहरी क्षेत्रों के भयावह नुकसान के साथ फैली स्थिरता की अवधि लगती है. आज जो भारत में बचा है, उसने इस प्रवृत्ति पर विराम लगाया है, लेकिन इसके अंतर्निहित कारण बने हुए हैं.

जैसा कि वामपंथी दावा कर सकते हैं कि ऐसा इतिहास समाप्त हो गया है, लेकिन ऐसा हुआ नहीं है.

भेदभावपूर्ण निन्दा और धर्मांतरण कानूनों के तहत इस्लामिक मध्य पूर्व, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश और दक्षिण-पूर्व एशिया में गैर-मुस्लिम आबादी रह रही है. इन सभी देशों में इस्लाम को आधिकारिक दर्जा दिया जाता है, जिसमें इस्लाम द्वारा मौत की सजा दी जाती है.

जबकि हिंदू और अन्य लोग आधिकारिक और गैर-आधिकारिक भेदभाव का सामना करते हैं. यहां तक कि भारत में ही, कश्मीर, केरल, असम और बंगाल में किनारों पर मौजूद मैदान हिंदुत्व से धीरे-धीरे खिसक रहे हैं क्योंकि उच्च इस्लामी जन्म दर और बांग्लादेश से अवैध प्रवास के जनसांख्यिकीय परिवर्तन ने उनके प्रभाव को महसूस किया है.

आप इन मुद्दों को अप्रासंगिक मान सकते हैं. शायद आज से एक सदी बाद, आप जैसा एक और हिंदू एक ऐसा ही समान वीडियो देखेगा जिसमें इसी एक समान भावना और निश्चिंतता के साथ सोचेगा कि अभी तो केवल कश्मीर, केरल, असम और पश्चिम बंगाल में हरे इस्लाम के इस रंग से चित्रित किया गया है.

ये क्यों हो रहा है? हम इसके बारे में क्या कर सकते हैं?

यह स्पष्ट है कि हिंदुत्व इस्लाम की तुलना में कम प्रतिस्पर्धी है. यह निगलने के लिए एक कड़वा सत्य है, लेकिन यह विकल्प विलुप्त होने के लिए अग्रसर होना ही है. सच्चे शुभचिंतकों के लिए, अब हिंदुत्व की कमियों को दूर करने के उपायों का निस्संकोच विश्लेषण और निर्मम क्रियान्वयन होना चाहिए.

ध्यान देने की एक महत्वपूर्ण बात यह है कि भारी संख्या से हिंदू पराजित नहीं हुए. अधिकांश आक्रमणकारियों की संख्या केवल हजारों में थी. इसमें प्राथमिक अपराधी हिंदुओं में दूरदृष्टि और एकता का अभाव है.

कल और आज के इस्लामिक शासक इस्लाम को बढ़ावा देते हैं. बदमाश जैसे कि औरंगजेब, अफगानिस्तान के राजा अब्दुर रहमान जिसने नूरिस्तान के मूल गैर-मुस्लिम अफगान और साथ ही आज के पाकिस्तान या सऊदी अरब में जबरन धर्म परिवर्तन किया.

हिंदू तब और अब सहिष्णु होने का शिकार होते ही रहे हैं ( जिसे हिंदी में “महानता का भूत” कहा जाता है). इस एकतरफा महानता के जुनून का परिणाम हम झेल रहे हैं, आज भी!

इसे समझने के बाद, हमें क्या करना चाहिए? जाहिर है, हमें हिंदुत्व को सुधारना होगा. साथ ही जातिवाद और क्षेत्रवाद जैसे हिंदुत्व के फ्रैक्चर को ठीक करने का दीर्घकालिक कार्य करना होगा. उपरोक्त रुझानों के बारे में जागरूकता बढ़ाई जा सके. उसके उन लोगों का समर्थन किया जाए जिन्होंने हिंदू धर्म की रक्षा में अपने जीवन को समर्पित कर दिया है, जैसे कि संघ (आरएसएस). मैं जल्द ही इन मुद्दों पर अधिक गहराई से चर्चा करूंगा.

हालांकि सबसे पहले, हमारे पास 2019 का आम चुनाव है. एक तरफ हमारे पास मोदीजी हैं, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा और विकास के निस्वार्थ खोज में अपना पूरा जीवन बिताया है.

दूसरी ओर हमारे पास भोले उदारपंथी हैं, जैसे ममता बनर्जी, केजरीवाल और वंशवाद के प्रतीक राजनेता राहुल गांधी, जिनके पास हमारे द्वारा बताए गए ऐतिहासिक रुझानों के बारे में कोई सुराग ही नहीं है,. साथ ही साथ बीएसपी या एसपी जैसे विभिन्न क्षेत्रीय राजनीतिक व्यवसाय भी हैं जो जाति के भेद को गहरा करने पर तुले हैं. इससे पहले ही हिंदू धर्म कम हो गया है.

2 Comments

  1. Avatar
    May 31, 2019 - 6:11 am

    Hey! This is my first comment here so I just
    wanted to give a quick shout out and tell you I really enjoy reading through
    your blog posts. Can you suggest any other blogs/websites/forums that deal with the same topics?

    Thank you!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *