नोट्रे डैम पर आंसू बहते पर अपने हज़ारो साल पुराने अतुल्य मंदिर के जलने का पता नहीं

दो दिन पहले फ्रांस के सबसे प्रसिद्ध स्थलों में से एक पेरिस के 850 साल पुराने मध्ययुगीन नॉट्रे-डेम कैथेड्रल में आग लग गई और मुख्य संरचना को छोड़कर भवन की शिखर और छत तक ढह गये. जाहिर है यह एक दुर्भाग्यपूर्ण खबर थी.

जल्द ही, देखते ही देखते नॉर्टे-डेम के जलने की तस्वीरें और वीडियो हमारे सभी फोन और टीवी पर छा गए अगर सच बोलूं तो मैं नोट्रे-डेम कैथेड्रल के बारे में नहीं जानता था लेकिन फिर भी आग देखकर दुख महसूस किया.

तभी अचानक बहुतेरे संदिग्धों के सोशल मीडिया पर भयभीत भावनाओं के उभार को देखकर मुझे थोड़ा शक़ होने लगा. मैने देखा इनमें से तो अनेकों वही भारतीय हैं, जिन्होंने कभी अपनी कला और वास्तुकला की परवाह नहीं की, वे नोट्रे-डेम के बारे में इतना भयभीत और पीड़ित क्यूँ हैं?

फिर बहुत सारे ट्वीट्स और थ्रेड्स पढ़े. इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, @Trueindology का ट्वीट देखा, जो की हाल ही में हज़ारों साल पुराने मीनाक्षी मंदिर को नष्ट करने वाली विनाशकारी आग के बारे में था. बहुत ताज़्ज़ूब हुआ की मुझे इस घटना के विषय में कोई जानकारी नहीं थी.

फिर जाना की मदुरैई का मीनाक्षी मंदिर कुछ ही महीने पहले भीषण आग लगने से बड़े पैमाने पर क्षतिग्रस्त हो गया था. ये नोट्रे-डेम से काफी पुरानी है, वर्ल्ड हेरिटेज साइट भी है, अत्यंत ही खूबसूरत है और हमारी प्राचीन शिल्पकाला की धारिणी भी है.

लेकिन क्या आपको इस घटना के बारे में चौबीसों घंटे मीडिया कवरेज हुआ हो, याद है? क्या आपने किसी को अपनी पीड़ा व्यक्त करते देखा? हमारे अपने भव्य मीनाक्षी मंदिर में लगी आग की झबर को शायद कुछ अख़बार के पन्नों में जगह मिली हो लेकिन किसी टीवी पर इसका कोई ज़िक्र भी नहीं हुआ.

मुझे तो अब भी शर्म आ रही है, और साथ में गुस्सा भी. शर्मिंदा इसलिए, क्योंकि एक 2000 साल पुराना प्रसिद्ध भारतीय मंदिर आग में नष्ट हो, और मुझे इसके बारे में पता भी नहीं. गुस्सा, क्योंकि हालात कल्पना से भी बदतर है.

अब ज़रा कल्पना करें की हज़ारों नॉर्ट-डेम्स जला दिए जाएँ, नष्ट किए जाएँ… वो भी किसी दुर्घटना में नहीं, बल्कि इंसानों द्वारा… सिर्फ़ इसलिए की उनकी विचारधारा, उनका विश्वास आपसे अलग हो?

आपका कहना की किसी कला और वास्तुकला की सराहना को सीमाबद्ध नहीं किया जा सकता, सही है. मैं आपकी सराहना की सराहना करता हूं. लेकिन जब पिछले दो दशकों में कश्मीर में सैकड़ों मंदिरों को नष्ट किया गया तो आपको आक्रोश क्यूँ नहीं आया? पीड़ा क्यूँ नहीं हुई?

भारत में हजारों प्राचीन मंदिर हैं, जिनमें से कई अक्सर नष्ट हो गये या किए गये हैं. ख़ास कर उन लोगों ने जिन्होने इस बात पर कभी तूल नहीं दिया, अगर अचानक नॉर्ट-दमे की आग देखकर वास्तुकला प्रेमी बन जाएँ, तो यह बहुत ही संदेहास्पद है.

किसी ने ट्वीट किया – “Thou shalt not be forgiven for this huge loss to history, art, and architecture.”  इस मूर्खता को समझना भी मुश्किल है.

हे मूर्ख, नोट्रे-डेम एक धनी प्रथम विश्व देश में है और इसके लाखों-करोड़ों प्रेमी और अनुयायी हैं जो की इसकी अच्छी देखभाल करेंगे. और तुरंत ही खबर आई की इस कैथेड्रल के पुनर्निर्माण के लिए फ्रांसीसी अरबपति फ्रेंकोइस-हेनरी पिनाउल ने 100 मिलियन यूरो देने का वादा किया.

और भारत के अंदर ये ही लोग कहेंगे: “इसके बजाय एक अस्पताल का निर्माण करें? या अनाथालय? नहीं? एक विश्वविद्यालय? उनके धर्मोपदेश केवल भारत की अशिक्षित-गँवार जनता के लिए आरक्षित हैं. पश्चिमी देशों का नाम सुनते हीं इनका हृदय उनकी परंपराएँ, उनके धरोहर के लिए पिघल जाता है.

आगे और पढ़ने पर जानकारी हुई की शायद, वेदपुरेस्वरार मंदिर में स्थित शिवलिंग को उपनिवेश के दौरान फ्रांसीसी द्वारा नष्ट कर दिया गया था. नोट्रे-डेम के बारे में पढ़ने के बाद निश्चित रूप से उल्लेख करूंगा कि यह व्यापक रूप से माना जाता है कि इस कैथेड्रल ने एक पूर्व बुतपरस्त (Pagan) मंदिर की जगह पर कब्जा कर लिया था.

मेरा सिर्फ़ इतना कहना है की जब आप पेरिस में हुए इस नुकसान पर शोक व्यक्त कर रहे हैं तो कृपया यह भी याद रखें कि आपके अपने घर में क्या हुआ था. 

तब नालंदा विश्वविद्यालय को भी याद करें जिसे बख्तियार खिलजी ने जब जलाया तब इस आग में करोड़ों पांडुलिपियाँ हफ्तों-महीनों तक तक जलती रहीं और इस प्राचीन ज्ञान के भंडार को विनाश के गर्त में डाल दिया गया.

क्या आपमें यह समझने की भूख है कि सोमनाथ के मंदिर को, मार्तण्ड के भव्य सूर्य मंदिर को, किस विचारधारा के किस राक्षस ने क्यूँ जला दिया था? जो लोग राम जन्म भूमि से हमारी सभ्यता के भावनात्मक संबंध का मखौल बनाते हैं, वे नोट्रे-डेम के लिए रो रहे हैं? 

क्या आपको ग्यात है जवाहरलाल नेहरू ने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के विषय में के एम मुंशी से क्या कहा था? 

“I do not like your trying to restore Somnath. It is Hindu revivalism.” (“मुझे सोमनाथ को बहाल करने की आपकी कोशिश पसंद नहीं है. यह हिंदू पुनरुत्थानवाद है.”)

क्या आपलोगों ने इस बात के लिए कभी नेहरू को कटघरे में खड़ा किया? नहीं, आप हमेशा उनके बचाव में खड़े रहे.

मुझे भी कला और वास्तुकला से प्यार है, लेकिन मेरी अपनी प्राथमिकताएँ हैं. कला और वास्तुकला की सराहना सीमाओं को पार करती है, ठीक है, और किसी भी पश्चिमी नुकसान पर शोक करने को फैशानाबले मानना भी ठीक है. लेकिन नोट्रे-डेम के बारे में रोना और अपने स्वयं के बर्बाद मंदिरों के बारे में चुप्पी, सिर्फ़ और सिर्फ़ बेशर्मी है.

23 Comments

  1. Avatar
    June 2, 2019 - 10:27 pm

    I needed to thank you for this very good read!!
    I absolutely enjoyed every little bit of it.
    I have got you bookmarked to look at new things you post…

    Reply
  2. Avatar
    June 3, 2019 - 6:04 pm

    Thanks on your marvelous posting! I truly enjoyed
    reading it, you’re a great author.I will make certain to bookmark your blog and will come back someday.
    I want to encourage you to definitely continue your great writing, have a nice morning!

    Reply
  3. Avatar
    June 4, 2019 - 1:40 pm

    Thankfulness to my father who shared with me on the topic
    of this webpage, this website is in fact amazing.

    Reply
  4. Avatar
    June 6, 2019 - 8:33 am

    I think this is among the most important info for me.
    And i’m glad reading your article. But wanna remark on some general
    things, The site style is perfect, the articles is really nice : D.
    Good job, cheers

    Reply
  5. Avatar
    June 6, 2019 - 9:12 pm

    Highly descriptive article, I loved that bit. Will there be a
    part 2?

    Reply
  6. Avatar
    June 8, 2019 - 4:48 am

    What i don’t understood is if truth be told how you’re
    no longer really a lot more smartly-appreciated than you
    might be right now. You’re so intelligent.
    You know thus significantly in terms of this matter, made me in my opinion consider it from
    a lot of numerous angles. Its like women and men don’t seem to be involved except it’s
    one thing to do with Girl gaga! Your personal stuffs nice.
    At all times handle it up!

    Reply
  7. Avatar
    June 10, 2019 - 7:42 pm

    Not just why you write good content, or how to publish the
    program. Increasing your all forms of opportunities you get to take benefit of.
    That last thought is an article alone. https://918kiss.poker/downloads

    Reply
  8. Avatar
    June 10, 2019 - 7:42 pm

    Not just why you write good content, or how to publish the program.
    Increasing your all forms of opportunities you get to take
    benefit of. That last thought is an article alone. https://918kiss.poker/downloads

    Reply
  9. Avatar
    June 12, 2019 - 8:39 am

    Do you have a spam problem on this blog; I also am a blogger, and I
    was wanting to know your situation; we have created some nice procedures and we are looking to exchange techniques with others, please shoot me an email if interested.

    Reply
  10. Avatar
    June 14, 2019 - 2:15 pm

    Hi there friends, its fantastic article
    regarding educationand completely explained, keep it
    up all the time.

    Reply
  11. Avatar
    June 15, 2019 - 12:02 am

    Hello, I check your blogs on a regular basis. Your writing style is witty, keep
    it up!

    Reply
  12. Avatar
    June 16, 2019 - 4:34 pm

    I don’t even know how I ended up here, but I thought
    this post was great. I don’t know who you are but definitely you’re going to a famous blogger if you aren’t already 😉 Cheers!

    Reply
  13. Avatar
    June 22, 2019 - 7:30 am

    Hello there! I could have sworn I’ve visited your blog before
    but after looking at some of the posts I realized it’s new to me.
    Anyhow, I’m definitely pleased I discovered it and I’ll be book-marking it and checking back regularly!

    Reply
  14. Avatar
    June 23, 2019 - 11:56 am

    I have been exploring for a little for any high-quality articles or weblog posts on this sort of house .
    Exploring in Yahoo I finally stumbled upon this site.
    Reading this information So i’m satisfied to
    convey that I’ve a very excellent uncanny feeling I discovered just what
    I needed. I most without a doubt will make sure to don?t fail to
    remember this site and give it a glance on a relentless basis.

    Reply
  15. Avatar
    July 1, 2019 - 8:53 am

    Hey very nice website!! Guy .. Excellent .. Wonderful
    .. I will bookmark your blog and take the feeds
    additionally? I am happy to find a lot of useful information here within the
    put up, we need develop more techniques on this regard, thank you for sharing.
    . . . . .

    Reply
  16. Avatar
    July 11, 2019 - 3:08 am

    Hi, There’s no doubt that your website could possibly be having browser compatibility issues.
    Whenever I take a look at your website in Safari, it looks fine however, when opening in Internet Explorer,
    it’s got some overlapping issues. I merely wanted to give
    you a quick heads up! Apart from that, excellent site!

    Reply
  17. Avatar
    July 15, 2019 - 1:08 pm

    If you would like to increase your know-how only keep visiting this website and be
    updated with the most recent news posted here.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *