UPA 2 के कार्यकाल को NDA से बेहतर बताने के लिए आंकड़ों की बाजीगरी की खुलती पोल!

देश के कुछ तथाकथित अर्थशास्त्रियों और बुद्धिजीवियों द्वारा समय समय पर यह कहा जाता रहा है कि इस देश की GDP का आंकड़ा असल में सच्चाई से बहुत दूर है. यह भारतीय अर्थव्यवस्था में बेहतर आंकड़े ज़रूर दिखाता हो लेकिन उसकी असली हकीकत नहीं दिखाता है. यह सवाल तभी से खड़े किए जाते रहे हैं जब से इस सरकार ने जीडीपी की गणना करने की पद्धति को बदल दिया है.

यह बदलाव इसलिए किये गए ताकि दुनिया जिस यूनाइटेड नेशंस सिस्टम ऑफ एकाउंट्स (2008) के अनुसार GDP की गणना करती है, उसी तरीके से भारत करे. नई तकनीकी आंकड़े को विश्व बैंक, इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड, और संयुक्त राष्ट्र द्वारा सराहा गया है तो इसकी विश्वसनीयता पर तो कोई संदेह कर ही नहीं सकता है.

यद्यपि हमारे देश के कुछ अर्थशास्त्रियों द्वारा इन आंकड़ों को हमेशा गलत बताया गया है जिसके तर्क अनुसार इन आंकड़ों को जानबूझकर बदला गया है ताकि UPA के शासनकाल में हुई GDP विकास दर को कम करके दिखाया जा सके. दुर्भाग्यवश, इसके पीछे कोई तथ्य नहीं है क्योंकि देश की अर्थव्यवस्था में विकास दर 2011-12 के दौरान ही लगातार नीचे जाने लगी थी और UPA2 के शासनकाल के दौरान इन्फ्लेशन (महंगाई दर) अपने उच्चतम सीमा पर थी वहीं विकास गति रुक चुकी थी.

सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा यहां पर उस पद्धति का है जिसके अनुसार आंकड़े निकाले जाते थे लेकिन आज तक किसी ने उसकी खामियों के बारे में कुछ बताया ही नहीं, और ना ही उसकी कोई आवाज़ उठाई.नई पद्धति से आये विकास के संकेतों की बुराई करने के लिए इसके डिफ्लेटर्स पर एक बड़ी बहस छेड़ दी गयी है जिसके माध्यम से GDP के आंकड़ों की गणना होती रहती है.

GDP के आंकड़ों का पता लगाने के लिए सबसे पहले सभी उत्पादों का और सेवाओं का अर्थव्यवस्था के अंदर मूल्य निकाला जाता है और फिर उसको GDP के आंकड़ों में डीफ़्लेट कर देते हैं. ताकि GDP आंकड़े मिले.

यह इस बात को सुनिश्चित करने के लिए होती है ताकि उत्पादों और सेवाओं के दाम का असर इस पर न आये. डिफ्लेटर की पसंद के आसपास एक वास्तविक बहस है, लेकिन किसी तरह विकास के अनुमानों पर चर्चा इसके साथ जुड़े तकनीकी पहलुओं के बजाय राजनीति के चारों ओर घूम गई है.

यह मानने के पर्याप्त कारण हैं कि केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी बैक श्रृंखला वास्तव में मजबूत है. पिछली श्रृंखला ने सुझाव दिया कि सितंबर 2008 में शुरू हुए वैश्विक वित्तीय संकट का भारतीय अर्थव्यवस्था पर सीमित प्रभाव पड़ा. यह वैश्विक बाजारों (विशेष रूप से वित्तीय बाजारों) में भारत के एकीकरण की सीमा को अत्यधिक संभावना नहीं देता है.

नतीजतन, कई लेखकों ने तर्क दिया कि भारत ने अपनी अर्थव्यवस्था को कम कर दिया था, या कम से कम बाहरी कमजोरियों ने इसे ऐसा करने के लिए प्रेरित किया था. यह ध्यान देने योग्य है कि सितंबर 2008 के संकट के बाद, भारत सरकार ने तेजी से अपने वित्तीय व्यय में वृद्धि की. इसके परिणामस्वरूप विकास दर में एक अस्थायी पुनरुद्धार हुआ, जो कि बैंकों द्वारा तेज़ ऋण देने से आगे बढ़ गया था. इसके परिणामस्वरूप औद्योगिक क्षेत्र में अतिरिक्त क्षमताओं का निर्माण हुआ. यह अच्छी तरह से समझा जाता है कि जब अतिरिक्त क्षमता होती है, तो कंपनियां निवेश नहीं करती हैं. यह ठीक वही है जो 2011 के बाद हुआ था क्योंकि क्षमता उपयोग गिर गया था और अतिरिक्त क्षमता (डेटा के लिए स्रोत: आरबीआई) में वृद्धि हुई थी. इसलिए, यह सुझाव देने के लिए पर्याप्त व्यापक आर्थिक प्रमाण हैं कि नई जीडीपी श्रृंखला सटीक है और पिछली जीडीपी श्रृंखला में एक महत्वपूर्ण सुधार है.

इसके बावजूद भी हाल में ही छपे एक आर्टिकल में कहा गया है कि यूपीए 2 में हुआ विकास एनडीए 2 से कहीं बेहतर है। इसके लिए कुछ मापदण्ड चुन-चुनकर निकाले गए हैं और उनको अपने तरीके से पेश किया गया है। इस आकलन तक पहुंचने के लिए लेखक ने जीडीपी को न छेड़ते हुए और कई बिंदुओं पर बात करने की कोशिश की है क्योंकि शायद उनका मानना है कि जीडीपी विकास दर को मापने के सही तरीका नही है। परंतु हम इस बात को ऊपर ही गलत साबित कर चुके हैं।

परंतु यहां कुछ और भी दिक्कतें हैं जिनके बारे में बात होनी ही चाहिए.

शुरुआत में, हमें यह बताना चाहिए कि यूपीए -2 के तहत विकास एनडीए की तुलना में अधिक मजबूत था, यह सुझाव देना बहुत निरर्थक है. अब जब हमने उच्च मुद्रास्फीति और 2011 के बाद की मंदी के संदर्भ में इस तरह की वृद्धि की लागतों का अनुभव किया है, तब हमारे पास यूपीए के तहत विकास की नाजुक प्रकृति के बारे में पर्याप्त सबूत हैं. UPA-2 के शुरुआती दिनों के दौरान विकास को बैंकों द्वारा अत्यधिक उधार के साथ संयुक्त रूप से एक उच्च राजकोषीय घाटे से भर दिया गया था जो एक घातक कॉकटेल के रूप में देखा जाता है. एक बार जब अर्थव्यवस्था धीमी हुई, तो बैड डेब्ट की समस्या बढ़ गई, अर्थव्यवस्था में ऋण उपलब्धता को सीमित कर दिया गया. मंदी ने सरकार के राजस्व प्राप्ति पर भारी दबाव डाला.

सांख्यिकीय गिरावट

विकास दर को दर्शाने हेतु लिए गए संकेतक कई तरह से निषेधात्मक या प्रतिबंधात्मक हैं. उदाहरण के लिए, हम घरेलू दोपहिया वाहनों की बिक्री या कार की बिक्री पर नजर डालते हैं. इन दोनों वेरिएबल्स की तुलना पांच साल की अवधि के आधार पर की जाती है. यह समस्याग्रस्त है क्योंकि लेखक खुद बताते हैं कि 2009-10 और 2010-11 में कार की बिक्री में बड़ी उछाल आई और यह औसत आउटलेर्स के लिए संवेदनशील मामला हो सकता है. 2011 तक विकास दर ऊंची थी और यह 2011 के बाद ही ढह गई थी, इसलिए तुलना साल दर साल आधार पर होनी चाहिए थी.

यदि 2014 में अर्थव्यवस्था धीमी हो रही थी, तो यह एक साल के भीतर जादुई रूप से पुनर्जीवित नहीं होगी. यह कुछ वेरिएबल्स के लिए जैसे निवेश या लाभ चक्र के लिए एक महत्वपूर्ण कारक है. जीडीपी वृद्धि का मूल्यांकन करने के लिए वेरिएबल्स की पसंद ने इन कारकों की अनदेखी की है.

लेख में इस अवधि के दौरान कम खुदरा ऋण वृद्धि का भी उल्लेख किया गया है, लेकिन यह फिर से इस बिंदु पर वापस जाता है कि बीते पांच साल से अगले पांच साल की औसत तुलना बहुत कम सांख्यिकीय अर्थ बनाती है. UPA-2 के अत्यधिक उधार के कारण बैंकिंग प्रणाली में स्ट्रेस्ड एसेट्स का एक महत्वपूर्ण निर्माण हुआ. नतीजतन, बैंकों के पास शुरुआती एनडीए वर्षों के प्रमुख हिस्से के लिए उधार देने की क्षमता नहीं थी. यह पर्याप्त प्रावधान और इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड के लागू होने के बाद ही है कि नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) का रिज़ॉल्यूशन शुरू हुआ और बैंक अपनी बैलेंस-शीट को डी-स्ट्रेस करने में सक्षम हुए.

कम खुदरा ऋण वृद्धि इस प्रकार आपूर्ति पक्ष की अड़चनों के कारण थी और इसे खुदरा ऋण की मांग में कमी के लिए प्रॉक्सी के रूप में नहीं लिया जा सकता था.

2006-2010 के बीच आसान ऋण के कारण रियल एस्टेट क्षेत्र में उछाल के कारण सीमेंट उद्योग को भी ऐसी ही समस्याओं का सामना करना पड़ा. लेकिन जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था धीमी होती गई, बिल्डरों ने इन्वेंट्री जमा की और 2013 तक यह सेक्टर एक काल्पनिक दुनिया में चला गया.

इसमें से बहुत सारी समस्याओं को RERA (रियल एस्टेट रेगुलेशन एक्ट) में लाकर और संभावित घर के मालिकों और बिल्डरों के बीच बेहतर विश्वास कायम करके हल किया गया है. 2014 के बाद की मुद्रास्फीति की दर में भी मामूली ब्याज दरों में कमी आई है, इसलिए एक घर के मालिक बनने के लिए होने वाले खर्चे की लागत कम हो रही है. एनडीए के पिछले कुछ साल रियल एस्टेट सेक्टर के लिए अच्छे रहे हैं, खासकर किफायती आवास खंड में, इसलिए एक बार फिर तुलना पांच साल के औसत के बजाय साल-दर-साल के आधार पर होनी चाहिए.

लेखक विवेक कौल द्वारा किए गए एक अन्य समस्यात्मक सुझाव कम आय कर वृद्धि दर के बारे में है. उनके दावे के साथ समस्या यह है कि ‘कर संग्रह’ नाममात्र का एक वेरिएबल है और भारत ने पिछले कुछ वर्षों में मध्यम मुद्रास्फीति का अनुभव किया है. इस प्रकार तुलना केवल पांच साल की औसत विकास दर को देखने के बजाय एक अवधि के दौरान अर्थव्यवस्था उछाल पर होनी चाहिए.

एक अर्थव्यवस्था में कई क्षेत्र होते हैं और सभी क्षेत्रों में एक ही गति से बढ़ने की संभावना नहीं होती है. इस तरह के विकास का मूल्यांकन करते समय ‘बेस इफ़ेक्ट’ को भी माना जाना चाहिए. कई मायनों में, विकास की एक व्यापक तस्वीर लेना महत्वपूर्ण है, लेकिन जिन वेरिएबल्स को उठाया गया है वे उन क्षेत्रों के हैं जो हम सभी जानते हैं कि यूपीए -2 की खराब आर्थिक नीतियों के कारण एनडीए -2 के शुरुआती हिस्से में संघर्ष कर रहे थे.

पिछले पांच वर्षों में डिजिटल अर्थव्यवस्था के उदय के साथ भौतिक बुनियादी ढाँचे में निवेश द्वारा भारत की हाल की वृद्धि को संचालित किया गया है. यह उन दो कारकों का एक संयोजन है, जिन्होंने उस समय आर्थिक विकास को गति दी है जब भारत के पारंपरिक उद्योग अपने क्षेत्र-विशिष्ट बाधाओं का समाधान कर रहे थे. इन क्षेत्रों में से अधिकांश में तो पिछले दो वर्षों में उछाल देखा गया है और यह इन क्षेत्रों के किसी भी विश्लेषण में परिलक्षित होना चाहिए.

लेख का प्रयास एक सुविधाजनक, लेकिन असंगत, निष्कर्ष निकालने के लिए सांख्यिकीय रूप से त्रुटिपूर्ण कार्यप्रणाली का उपयोग करना था. इस निष्कर्ष को एक चुटकी नमक के साथ लिया जाना चाहिए, जो UPA-2 की अवधि को जानबूझकर अच्छा बनाने का प्रयास प्रतीत होता है. जब वास्तव में सरकार की असंगत और बेतुकी आर्थिक नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था गंभीर संकट में थी.

यह लेख स्वराज्य पर इसी विषय पर छपे लेख का अनुवाद है.

Tags: ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *