दुर्योधन की डायरी – हठ का सौंदर्यशास्त्र

हस्तिनापुर राजदरबार की बैठक चल रही है. उपस्थित हैं; महाराज धृतराष्ट्र, पितामह, महामंत्री विदुर, कृपाचार्य, द्रोणाचार्य, युवराज दुर्योधन, उप युवराज दुशासन, शकुनि और संजय.

महाराज धृतराष्ट्र सिंहासन के दोनों हत्थों को पूरा बल लगाकर मुट्ठियों में भींचे चौंसठ अंश पर मुख को ऊपर किए वायुमंडल ऐसे निहार रहे हैं जैसे इंद्र से बतिया रहे हों. कृपाचार्य एक पुस्तक के पन्ने पलटते हुए कुछ ऐतिहासिक तथ्य ढूँढ रहे हैं. किंचित राजदरबार में धर्म-अधर्म को लेकर कोई शास्त्रार्थ छिड़ा हुआ है.

द्रोणाचार्य निज ज्ञान से विकसित युद्ध कला के नए कौशल को सोच के द्वारा मन ही मन विकसित कर रहे हैं.

उधर पितामह पूरे संसार की बेचारगी मुख मंडल पर समेटे युवराज दुर्योधन से कह रहे हैं;

“तुम्हारे इसी हठ से हस्तिनापुर को वर्षों से तक बहुत अपयश मिला है पुत्र, वर्षों तक बहुत अपयश मिला है. तुमने अपने हठ, अधर्म और अत्याचार से सम्पूर्ण हस्तिनापुर को बंदी बना रखा है पुत्र, बंदी बना रखा है. ऊपर से तुम्हारा ये हलकट मामा हमेशा से आग में गाय का शुद्ध देसी घी डालता रहा है जो इसके चारण गांधार से वाया खैबर पख़्तून खा लाते रहे हैं. तुम चार दशकों से अडल्ट हो चुके हो पुत्र, अडल्ट हो चुके हो. तुम्हें यह समझने की आवश्यकता है कि सम्पूर्ण राज्य को अपने हठ से चलाने की तुम्हारी सोच एक दिन कौरवों के नाश का कारण बनेगी.

तुमने आचार्य द्रोण की पाठशाला में मन लगाकर शिक्षा ग्रहण नहीं की. स्मरण रहे पुत्र कि तुम्हें मात्र युद्धकला और षड्यंत्रशास्त्र से प्रेम रहा. गणित, विज्ञान, साहित्य, धर्म, नागरिकशास्त्र जैसे विषयों से तुम हमेशा वैर करते रहे पुत्र, वैर करते रहे. पाठशाला में तुमने भीम की हत्या का षड्यंत्र किया. वहाँ से निकले तो पांडवों से शत्रुता को नवीन स्तर पर ले जाते हुए तुमने कर्ण को अपना मित्र बनाया. द्रौपदी स्वयंवर में विकट बवाल किया. द्रौपदी का असीम अपमान कौन भूल सकता है?

पूरा हस्तिनापुर आजतक लज्जित है पुत्र, आजतक लज्जित है. पांडवों को तुमने लाक्षागृह में मारने का अपराधपूर्ण प्रयास किया. द्यूतक्रीड़ा में अधर्म का सहारा लेकर तुमने उन्हें वनवास भेजकर उनके राजपाट से अलग कर दिया. श्रीकृष्ण का बारम्बार अपमान किया पुत्र, बारम्बार अपमान किया. और आज तुम….”

पितामह की बात बीच में काटते हुए दुर्योधन बोला; “आप चाहे जितना तर्क दे दें, चाहे जितना धर्म-अधर्म का ज्ञान दे दें परंतु मेरी माँग अडिग है पितामह”

अभी तक पितामह को धैर्य के साथ सुन रहे महामंत्री विदुर ने सिर हिलाया और संसार की समस्त वितृष्णा मुख-मंडल पर लाते हुए पूछा; “परंतु युवराज की माँग है क्या पितामह?”

भीष्म ने आँखें बंद कर हुए अपना सिर हिलाते हुए कहा; “मुझसे न पूछें महामंत्री विदुर मुझसे न पूछें. आप पुत्र दुर्योधन से ही उसकी अडिग माँग के बारे में पूछें”

विदुर ने मुख-मंडल पर छाई वितृष्णा को और गहरा करते हुए कहा; “अच्छा, आप ही बताएँ युवराज कि आपकी यह नवीन अडिग डिमांड क्या है?”

दुर्योधन ने तैश में आते हुए कलाई पर गिर रहे अंगवस्त्र को झटका और बोला; “मेरी डिमांड यह है काकाश्री कि मोदी मस्ट रिज़ाइन

राजदरबार में उपस्थित दुर्योधन के समर्थक ज़ोर-ज़ोर से नारा लगाने लगे;

“युवराज दुर्योधन की जय”, “युवराज तुम आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ है”
“पीयो बीयर वाइन नाउ, मोदी मस्ट रिज़ाइन नाउ”
“दुर्योधन तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ है”

अंतिम नारा सुनकर दुशासन बिदक गया. उसने समर्थकों से कहा; “भ्राताश्री हस्तिनापुर के युवराज हैं मूर्खों, उन्हें कैसा संघर्ष करना? बिना अर्थ समझे नारा लगा देते हो?”

दुर्योधन ने दुशासन को समझाते हुए कहा; “नारे में अर्थ या प्रासंगिकता ढूँढना दुर्बल राजनीति की निशानी है अनुज.

नारे लगने दो, उन्हें मत रोको”

दूसरे दिन हस्तिनापुर इक्स्प्रेस, टाइम्ज़ ऑफ़ हस्तिनापुर और हस्तिनापुर टाइम्ज़ में कॉलम लिखे गए जिसमें कॉमन प्रश्न था;

इज प्रिन्स दुर्योधना फ़ाइनली कमिंग ऑफ़ एज?”




फोटो क्रेडिट

Shiv Kumar Mishra
Senior Reporter Lopak.in @shivkmishr

16 Comments

  1. Avatar
    निखिल रंजन
    March 6, 2019 - 12:38 pm

    जबरदस्त

    Reply
  2. Avatar
    May 3, 2019 - 1:53 pm

    With havin so much content do you ever run into any
    problems of plagorism or copyright infringement?
    My site has a lot of exclusive content I’ve either created myself or outsourced but it looks like a lot of it is popping
    it up all over the internet without my permission. Do you know any solutions to help prevent content from being ripped
    off? I’d truly appreciate it.

    Reply
  3. Avatar
    May 4, 2019 - 12:10 am

    Heya i’m for the primary time here. I came across this board
    and I in finding It truly helpful & it helped me out much.

    I’m hoping to provide one thing again and help others like you
    aided me.

    Reply
  4. Avatar
    May 7, 2019 - 8:37 pm

    Nice post. I was checking constantly this blog and
    I’m impressed! Very useful information particularly the last part
    🙂 I care for such information much. I was seeking this
    certain information for a long time. Thank you and best of luck.

    Reply
  5. Avatar
    May 11, 2019 - 1:42 pm

    What’s up i am kavin, its my first time to commenting anywhere, when i read this post i thought i could also create comment due
    to this sensible piece of writing.

    Reply
  6. Avatar
    May 13, 2019 - 6:08 pm

    Everything is very open with a clear description of the issues.
    It was truly informative. Your website is useful.
    Thank you for sharing!

    Reply
  7. Avatar
    May 13, 2019 - 11:50 pm

    You ought to be a part of a contest for one of the finest blogs on the internet.
    I most certainly will recommend this web site!

    Reply
  8. Avatar
    May 15, 2019 - 1:02 am

    If you are going for most excellent contents like I
    do, just pay a visit this web site daily since it offers feature contents, thanks

    Reply
  9. Avatar
    May 28, 2019 - 1:22 pm

    hello!,I really like your writing so so much!
    percentage we keep in touch more about your post on AOL?
    I need an expert on this house to solve my problem. May be that
    is you! Having a look ahead to look you.

    Reply
  10. Avatar
    May 29, 2019 - 4:48 pm

    You ought to be a part of a contest for one of the finest sites on the internet.

    I will recommend this blog!

    Reply
  11. Avatar
    May 31, 2019 - 10:50 am

    Hi there! I just want to give you a huge thumbs up for your great info you have got here on this post.
    I am returning to your website for more soon.

    Reply
  12. Avatar
    June 2, 2019 - 1:50 am

    When some one searches for his vital thing, thus he/she wishes
    to be available that in detail, thus that thing is
    maintained over here.

    Reply
  13. Avatar
    June 2, 2019 - 6:39 am

    Ahaa, its good dialogue about this piece of writing here at this web site, I have
    read all that, so now me also commenting here.

    Reply
  14. Avatar
    June 2, 2019 - 9:32 am

    When someone writes an paragraph he/she retains
    the image of a user in his/her mind that how a user can understand it.

    Therefore that’s why this paragraph is great.
    Thanks!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *